रिपोर्ट, वरूण सिंह

आजमगढ़ । बसपा के गोपालपुर विधानसभा प्रभारी व बिलरियागंज केे “पूर्व प्रमुख रमेश यादव” की विधायक बनने की दावेदारी पक्की! देखने को मिल रही है वहीं विरोधियों का हौसला पस्त? है । पूर्व प्रमुख रमेश यादव ने अपनी पत्नी को बसपा के टिकट पर बिलरियागंज के ब्लाक प्रमुख पद का उम्मीदवार बनाया और पूर्व प्रधान दिनेश यादव की पत्नी को भारी मतो से शिकस्त देते हुए अपना राजनीतिक वर्चस्व कायम किया है । अब इसका सीधा लाभ पूर्व प्रमुख रमेश यादव को आने वाले विधानसभा के चुनाव में मिलने की पूरी उम्मीद है, कारण की विधायक नफीस अहमद के साथ ही साथ समाजवादी पार्टी के तमाम नेताओं की प्रतिष्ठा दांव पर लगी हुई थी, लेकिन पूर्व प्रमुख रमेश यादव ने अपने राजनैतिक कौशल का परिचय देते हुए बिलरियागंज प्रमुख पद पर अपनी पत्नी को विजई बनाने में कामयाब रहे । बता देगी पूर्व प्रमुख रमेश यादव बहुजन समाज पार्टी के टिकट पर गोपालपुर विधानसभा सीट से विधानसभा का चुनाव लड़ने वाले हैं । इस कारण जहां पूर्व प्रमुख रमेश यादव की प्रतिष्ठा दांव पर लगी हुई थी । वही सपा के विधायक नफीस अहमद भी अपनी पूरी प्रतिष्ठा ब्लॉक प्रमुख के चुनाव को जीतने के लिए लगाए हुए थे । जहां पूर्व प्रमुख रमेश यादव को उम्मीद थी की ब्लॉक प्रमुख का चुनाव जीतने के बाद विधानसभा में उनको बढ़त मिलेगी, वहीं वर्तमान विधायक नफीस अहमद को भी पता था, कि बिलरियागंज ब्लॉक प्रमुख का चुनाव जीतना काफी महत्वपूर्ण है, ताकि आने वाले विधानसभा में जीत केे लिए रास्ता आसान हो सके, इसलिए विधायक नफीस अहमद की भी प्रतिष्ठा लगी हुई थी, लेकिन अंततः बाजी पूर्व प्रमुख रमेश यादव ने मार कर अपनी बढ़त विधानसभा चुनाव के लिए बना ली है । और इसका फायदा विधानसभा चुनाव में देखने को भी मिल सकता है