रिपोर्ट, आफताब आलम, अब्दुर्रहमान शेख, हम्माद, कुलदीप सिंह, मोहम्मद अकलेन

आजमगढ़ । हजरत इब्राहिम अलैहिस्सलाम की यादगार में ईद-उल-अजहा का त्योहार मुहम्मदपुर, मााहुल, महराजगंज, लालगंज, मेहनगर, देवगांव, फूलपुर सहित पूरे जनपद में अकीदत के साथ बुधवार को प्रात:काल नमाज अदा करके मनाया जा रहा है। इसके बाद कुर्बानी का दौर शुरु हुआ, जो देर रात तक चलेगा। बता दें यह त्योहार तीन दिनों तक मनाया जाता है। कोविड प्रोटोकाल को देखते हुए बुधवार को प्रात: बकरीद की नमाज मुस्लिम समाज के लोगों ने 50-50 से कम  की संख्या मे ईदगाह और मस्जिदों में अदा कर पूरे विश्व से कोरोना महामारी के खात्मे और देश के अमन चैन की दुआ मांगी। कुछ लोगों ने अपने-अपने घरो में ही नमाज अदा की। कोरोना संक्रमण के कारण सरकार द्वारा जारी की गई गाइड लाइन के अनुसार बकरीद की नमाज मस्जिदों में कोविड गाइडलाइन का पालन कराने के लिए पुलिस और प्रशासन मुस्तैद रहा। प्रशासन द्वारा सार्वजनिक रुप से कुर्बानी नहीं कराए जाने और नमाज अदा किए जाने के प्रति दिशा निर्देश दिए गए थे। इस अवसर पर बकरीद का पर्व महराजगंज क्षेत्र में हर्ष एवं उल्लास के साथ मनाया जा रहा है। सुरक्षा के दृष्टिगत महराजगंज कोतवाली पुलिस पूरी तरह अलर्ट है तथा बराबर चक्रमण में लगी रही, तो वहीँ कोतवाली प्रभारी गजानंद चौबे पुलिस बल के साथ बीती शाम क्षेत्र में भ्रमण कर लोगों को जारी गाईडलाईन के अनुसार त्यौहार मनाने के लिए जागरूक किया । बच्चे पर्व को लेकर काफी उत्साहित देखे जा रहे हैं । और एक दूसरे से गले मिलकर बकरीद की शुभकामनाएं दी । बिंद्रा बाजार संवाददाता के अनुसार कोरोना महामारी के साये के बीच क्षेत्र भर में हर्षोल्लास से ईद-उल-अजहा का त्योहार मनाया जा रहा है.। इस मौके पर अधिकतर लोगों ने नमाज घर में ही पढ़ी, बकरीद पर मस्जिदों में आमतौर पर दिखने वाली हलचल और रौनक नदारद रही, मखदुमपुर ईदगाह और मंगरावां रायपुर, बिसहम, मोहम्मदपुर, शिवराजपुर, लोगो के लिए बंद थी, भीड़ जमा न हो, इसके लिए मस्जिदों के बाहर पुलिस भी तैनात की गई थी । देवगांव संवाददाता के अनुसार लालगंज क्षेत्र में कुर्बानी का त्यौहार पूरी अकीदत के साथ मनाया गया, ईद उल अजहा की नमाज़ कोविड गाइड लाइन के अनुसार अदा की गई, नमाज़ अदा करने के बाद लोगों ने अल्लाह से महामारी ख़तम करने और देश में अमन, अमान की दुआ की। एक दूसरे को ईद उल अजहा की मुबारकबाद पेश की, कुर्बानी जैसे अज़ीम कार्य को भी अंजाम देने में लग गए। कुर्बानी का त्यौहार तीन दिन तक मनाया जाता है। क्षेत्र के बसही अकबाल पुर, सलेहरा, बनार पुर, दौना, कटौलि, देवगांव, लालगंज समेत और गांव में शान्ति, सुरक्षा के मद्देनजर पुलिस भी क्षेत्र का भ्रमण कर रही थी। माहुल संवाददाता के अनुसार माहुल नगर सहित ग्रामीण क्षेत्रो में कुर्बानी, त्याग व बलिदान का त्योहार ईद-उल-अज़हा भाईचारे व सौहार्द के बीच बुधवार को अकीदत के साथ मनाया गया । सुबह लोगों ने ईदगाहों व मस्जिदों में ईद-उल-अजहा की नमाज अदा की। लोगो ने एक दूसरे के गले मिलकर बधाई दी। इस दौरान लोगों द्वारा बकरे की कुर्बानी भी दी गई। उलेमाओं का कहना था कि यह महीना बहुत ही मुबारक महीना है। माहुल नगर पंचायत के अलावा कोर्राघाटमपुर, मोलनापुर , सजनी, निजामपुर , मखदुमपुर , सकतपुर ,सुखीपुर  सहित अन्य इलाकों में नमाज़ के दौरान कोविड- 19 का पालन किया गया। बकरीद पर्व को लेकर नगर पंचायत माहुल मे सुबह 6 बजे से ही पुलिस वाहन एवं पी ए सी चक्रमण करती रही वही  नगर में  सुरक्षा की दृष्टि से हर चौराहे पर पुलिस बल तैनात रही।