श्याम सिंह
माहुल (आज़मगढ) फूलपुर तहसील क्षेत्र के मखदूमपुर गाँव के निवासी व गोपालपुर के पूर्व विधायक डा0 हाफिज इरशाद के बहुजन समाज पार्टी का चार मंडलो का अनुसूचित जाति प्रकोष्ट का कोऑर्डिनेटर बनाये जाने से क्षेत्र में हर्ष ब्याप्त है। जैसे ही शुक्रवार देर शाम बसपा की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती के निर्देश पर उनके नाम की घोषणा की गई गाँव व उनके क्षेत्र के लोग खुशी में झूम गये ,शनिवार को उनके पैतृक आवास पर बधाइयां देने वालों का तांता लगा रहा। अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष हाफिज इरशाद एक जमाने मे बहुजन समाज पार्टी के संस्थापक कांशीराम के वेहद करीबी रहे है और सपा और बसपा के गठबंधन में गोपालपुर से चुनाव जीत कर विधायक बने थे। बीच मे कुछ दिनों तक वे बसपा से अलग होकर सपा और कांग्रेस पार्टी में रहकर राजनीति कर रहे थे। 20 जुलाई को उन्होंने बसपा की राष्ट्रीय अध्यक्षा मायावती से मिलकर डेढ़ घंटे तक बर्तमान राहनीतिक परिदृश्य पर चर्चा परिचर्चा किया। तभी से राजनीतिक हलकों में डॉ0 हाफिज इरशाद को महत्वपूर्ण जिम्मेदारी मिलने के कयास लगाए जा रहे थे। जैसे ही शुक्रवार को   उन्हें आज़मगढ़,बनारस,संतकबीरनगर व गोरखपुर सहित चार मंडलो का अनुसूचित वर्ग का कोआर्डिनेटर जैसे महत्वपूर्ण पद की घोषणा जोन प्रभारी द्वारा की गई लोगों में हर्ष व्याप्त हो गया तथा उनके पैतृक आवास मखदूमपुर में बसपा के पदाधिकारियों के साथ ही साथ बधाई देने वालो का तांता लगा रहा। इस मौके पर राघवेंद्र यादव,पूर्व ब्लाक प्रमुख सोंधी जौनपुर अनवर,पूर्व महाप्रधान राजकुमार गौतम, बसपा नेता इरसाद बब्लू सतेन्द्र सिंह,निखिल श्रीवास्तव आदि रहे।