बलिया । बदलता मौसम बच्चों से लेकर बुजुर्गों तक को बीमार कर रहा है। कभी सर्दी तो कभी गर्म मौसम होने के कारण सर्दी, खांसी,जुखाम,बुखार जैसी बीमारियां लोगों को अक्सर परेशान कर रही है। ऐसे में चिकित्सकों का कहना है कि मौसम बदलने के साथ ही बीमारियों का प्रकोप शुरू हो जाता है इसलिए इस समय ज्यादा सावधान रहने की आवश्यकता है।

जिला महिला चिकित्सालय स्थित प्रश्नवोत्तर केंद्र पर कार्यरत वरिष्ठ नवजात शिशु एवं बाल रोग विशेषज्ञ डॉक्टर सिद्धार्थ दुबे का कहना है कि ऐसे मौसम में सबसे पहले कमजोर हो रोग प्रतिरोधक क्षमता वाले लोग चपेट में आते हैं। इसलिए इस मौसम में बच्चों को सर्दी, खांसी जैसी तरह-तरह के वायरल और अन्य बीमारियां जैसे दस्त, निमोनिया आदि से बचाने के लिए उनका खास ख्याल रखें। आजकल एक ही दिन में कभी तेज धूप तो कभी बरसात होने के कारण तापमान में उतार चढ़ाव शुरू हो गया है। दिन में तापमान बढ़ जाता है और रात को पारा अचानक लुढक जाता है। ऐसे में छोटे बच्चे,वृद्ध लोग जिनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होती है थोड़ी भी है असावधानी से उनकी सेहत बिगड़ सकती है। अगर आपका शरीर कमजोर है तो ऐसी लापरवाही काफी महंगी साबित हो सकती है। डॉक्टर दुबे का कहना है कि हमें सिर्फ भोजन नहीं बल्कि स्वस्थ और संतुलित भोजन यानी प्रोटीन, आयरन विटामिन युक्त आहार ही उपयोग करना चाहिए। इसके लिए हमें घर पर बने भोजन एवं अन्य खाद्य सामग्रियों पर ध्यान देना चाहिए। वर्तमान परिस्थितियों को देखते हुए बाहर के खानपान से स्वयं और अपने परिवार को बचाएं।

: बढ़ाएं रोग प्रतिरोधक क्षमता

डॉक्टर दुबे कहना है कि अपनी डाइट में संतरा,आंवला,नींबू अनानास,पपीता लें। अदरक हल्दी,लहसुन,हरी पत्ती वाली सब्जियां,दाल ओट्स और फलियों को भोजन में शामिल करें। जिंक(फलिया) का भी शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में काफी महत्वपूर्ण योगदान है।सूखे मेवे जैसे काजू, बादाम ,अखरोट में भी जिंक भरपूर मात्रा में पाया जाता है। विटामिन डी धूप से और दूध,दही,अंडा,दलिया,मशरूम और मछली से मिल सकता है। इस समय मूंगफली का सेवन भी सेहत के लिए बेहद लाभकारी है।

सावधानी है बेहद जरूरी

सुबह शाम गुनगुने पानी से गरारे करें। जब भी घर से बाहर जाएं तो मास्क सावधानी से जरूर पहने। सभी से 2 गज की दूरी का ध्यान रखते हैं। खांसते और छीखते समय अपने मुंह पर रुमाल अवश्य रखें।

संतुलित आहार लें

डॉ दुबे का कहना है कि भारतीय थाली( दाल चावल, रोटी,सब्जी,सलाद दही)संतुलित आहार का सबसे अच्छा नमूना है। इसमें पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट विटामिन और मिनरल्स मिलते हैं।अधिक तेल मसालों के सेवन से बचें एवं अच्छी तरह से पका हुआ भोजन ही लें।

सावधानी है बेहद जरूरी

: सुबह शाम गुनगुने पानी से गरारे करें।

: जब भी घर से बाहर जाएं तो सावधानी से मास्क जरूर पहने।

: सभी से 2 गज की दूरी का ध्यान रखें।

: खांसते और छींकते समय अपने मुंह पर रुमाल अवश्य रखें।

: समय-समय पर हाथों को साबुन-पानी अथवा सैनेटाइजर से साफ करते रहे।