श्याम सिंह
आज़मगढ़ । अहरौला थाना क्षेत्र के इमामगढ़ गाँव मे रविवार शाम गैस सिलेंडर से रिसाव के कारण लगी आग में जिंदा जली तीन बच्चियों के गम में रात भर गाँव में कोहराम मचा रहा। इस दर्दनाक हादसे के कारण गाँव में करुण क्रंदन होता रहा, और किसी के घर में चूल्हे नहीं जले । देर रात क्षेत्राधिकारी बूढ़नपुर गोपाल स्वरूप वाजपेयी की उपस्थिति में थानाध्यक्ष अहरौला श्रीप्रकाश शुक्ला व चौकी प्रभारी माहुल विजय प्रकाश मौर्य ने तीनों बच्चियों के शव को पंचनामा बनवा कर पोस्ट मार्टम हेतु जिला अस्पताल भेज दिया। लाश को सील करते समय जली तीन बच्चियों के शव देख ग्रामीणों के अलावा प्रशासनिक अधिकारियों की आंखे भर आईं। रविवार देर रात से सोमवार दिन भर तहसील व जिला के आलाधिकारी के अलावा राजनीतिक दलों के नेताओ का आना जाना लगा रहा। ज्ञात हो कि इमामगढ़ निवासी दिनेश यादव पुत्र जियालाल की पत्नी माधुरी रविवार शाम खाना बना रही थी उसी समय गैस सिलेंडर में रिसाव हो गया और उसकी तीन पुत्रियां क्रमशः दीपांजलि 11 वर्ष सियांसी 6 वर्ष व श्रेजल 4 वर्ष जिंदा ही जल कर मर गई। तभी से गाँव मे कोहराम मचा हुआ है। घटना की सूचना मिलने पर देर रात उपजिलाधिकारी फूलपुर रावेंद्र सिंह के निर्देश पर तहसीलदार फूलपुर पवन कुमार सिंह इमामगढ़ पहुचे, और घटना स्थल का जायजा ले कर अधीनस्थ राजस्व कर्मियों को रिपोर्ट तैयार करने का निर्देश दे कर चले गये। सोमवार सुबह खाद्य सुरक्षा अधिकारी विकास सिंह व क्षेत्रीय पूर्ति निरीक्षक संतलाल मौके पर पहुचे और घटना स्थल का निरीक्षण कर ग्रामीणों से बात चीत कर रिपोर्ट तैयार कर तहसील प्रशासन को सौप दिया। इसी के साथ ही साथ क्षेत्रीय लेखपाल रविन्द्र यादव ने घटना से हुई धन जन की क्षति का जायजा लेकर रिपोर्ट किया।