ग्रामीणों ने लगाया नाव का अभाव व प्रशासन की उदास का आरोप ।

शैलेश सिंह

बैरिया,बलिया। स्थानीय थाना क्षेत्र के चिन्तामणि राय के टोला (पांडेयपुर) निवासी अरुण कुमार ठाकुर पुत्र शिव जी ठाकुर का शव बुधवार की देर शाम पाण्डेयपुर-दया छपरा के बीच बाढ़ के पानी में उतराया मिला। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

प्राप्त समाचार के अनुसार अरुण ठाकुर ढलाई मशीन पर काम करता था। वह सोमवार को वह मजदूरी कर अन्य मजदूरों के साथ दया छपरा आया, लेकिन घर नहीं पहुंचा। उसकी पत्नी खोजबीन कर रही थी कि बुधवार की शाम उसका शव बाढ़ की पानी मे उतराया मिला। पत्नी गीता देवी ने शव को पहचान कर दहाड़े मार कर गिर गई। ग्रामीणों की सूचना पर बैरिया बिधायक सुरेन्द्र सिंह व एसडीएम बैरिया अभय सिंह पहुंच गए। ग्रामीणों ने दो दिन के अंतराल में यह दूसरी घटना पर दुःख जताते हुए कहा कि उदई छपरा , गोपाल पुर , गंगापुर, टेगरहि तथा पाण्डेयपुर आदि गांवों में प्रचुर मात्रा में नावों की व्यवस्था कराई जाय तथा प्रशासन को यह जिम्मेदारी लेनी चाहिए कि ग्रामीण को नावों की अपेक्षा पानी हेल कर अपने घर न जाने पाये ।

ग्रामीणों ने आशंका जाहिर किया है कि अरुण नाव के अभाव में सम्भतः पानी को पैदल ही पार (हेल कर) घर जा रहा होगा, तभी गिरने की वजह से डूब गया होगा। अरुण अपने परिवार का एक मात्र कमाऊ सदस्य था। अरुण की पत्नी गीता देवी, पुत्री रिंकी 13 वर्ष व अंजलि 12 वर्ष, पुत्र सत्यम 9 वर्ष व कुमारी अंशिका 5 वर्ष का रोते-रोते बुरा हाल है।