वरूण सिंह

सोनभद्र । पति ने पत्नी की हत्या कराने के लिए शूटरों को दो लाख रुपये की सुपाड़ी दी, इन रुपयों को हड़पने के लिए शूटरों ने सुपाड़ी देने वाले पति को ही गोलियों से उड़ा दिया। इस वारदात को अंजाम देने वाले चार में तीन शूटरों को पुलिस ने पकड़ लिया है। और एक सूटर की तलाश कर रही है, यह बातें एसपी अमरेन्द्र प्रसाद सिंह ने पत्रकारों से शुक्रवार को पुलिस लाइन चुर्क स्थित सभागार में कही, पिछले शनिवार को हुई चोपन थाना क्षेत्र के सिन्दुरिया गांव निवासी सुरेन्द्र पाण्डेय की हत्या का खुलासा के दौरान कही, मीडिया के सामने उन्होंने पकड़े गए तीनों शूटरों को पेश किया, पकड़े गए शूटरों में योगेश कुमार मिश्रा, निवासी ग्राम मुसहीं, थाना रॉबर्ट्सगंज, पंकज कुमार बघेल, निवासी सहिजन खुर्द, थाना रॉबर्ट्सगंज और चंदन तिवारी, निवासी कुरहुल, थाना चोपन, शामिल है, इसके अलावा चौथा शूटर शिवशंकर कनौजिया, निवासी मुसहीं, थाना रॉबर्ट्सगंज फरार है, एसपी ने बताया कि मुखबिर की सूचना पर उक्त तीनों को हिन्दवारी तिराहे से गुरुवार की शाम पांच बजे उस समय गिरफ्तार किया गया, जब तीनों कहीं भागने की फिराक में थे, अभियुक्तों की निशानदेही पर मृतक का मोबाइल फोन, मृतक द्वारा हस्ताक्षरित भारतीय स्टेट बैंक का चेक,मृतक की बाइक और आलाकत्ल कट्टा (12 बोर) बरामद किया गया है, एसपी के मुताबिक पूछताछ में तीनों ने बताया कि मृतक सुरेन्द्र अपनी पत्नी की हत्या कराना चाहता था, इसके लिए उसने करीब 2 माह पहले चन्दन तिवारी के माध्यम से शूटरों से सम्पर्क किया, हत्या के लिए 2 लाख रुपये की सुपारी तय हुई, शूटरों ने घटना को अंजाम देने से पहले रुपये की मांग की तो सुरेन्द्र ने एसबीआई के अपने खाते के बैलेंस एवं उसके द्वारा हस्ताक्षरित चेक दिखाया, इस पर शूटरों के मन में शंका हुई कि कहीं हत्या हो जाने के उपरांत सुरेन्द्र उन्हें पैसा देगा या नहीं, इसलिए पत्नी की हत्या करने से अच्छा है कि सुरेन्द्र की हत्या कर वह चेक ले लिया जाए, घटना के दिन शुक्रवार (13 अगस्त की रात) सुरेन्द्र स्वयं शूटर योगेश व पंकज को लेकर चोपन आया, अपने घर ले जाकर हत्या के लिये तमंचा व कारतूस दिया, जब यह तीनों चोपन आ रहे थे, तो रास्ते में सुरेन्द्र किसी से मोबाइल पर बात करने लगा, उसी दौरान गाड़ी में ही उसकी गोली मार कर हत्या कर दी गई, और शव को सुरेन्द्र के गांव सिन्दुरिया में ही एक खेत में फेंक दिया।