(बलिया) बलिया लखनऊ राजधानी मार्ग पर फेफना थाना क्षेत्र अन्तर्गत फेफना रेलवे क्रासिंग व रसड़ा कोतवाली क्षेत्र के गढिया रेलवे क्रासिंग ,
कटिहारी रेलवे क्रासिंग, रतनपुरा, रेलवे क्रासिंग पर गेट लगा हुआ है चूकिं मेन रोड होने के कारण दिन रात इस मार्ग पर प्राईवेट व सरकारी वाहनों का आना जाना लगा रहताहै ।
हालांकि रेलवे ने सभी फाटकों पर गेटमैन रखें है ।सुरक्षा के दृष्टि से फाटकों पर सुन्दर अक्षरों में लिखा भी है रुकिये मगर इसके बावजूद भी जल्दी जल्दी के चक्कर में कभी फाटक तोड देते हैं तो कभी फाटक के अन्दर प्रवेश कर जाते है।ऐसा ही मामला शनिवार को हो गया उस समय अफरा तफरी मच गई जब बड़ा हादसा होते-होते टल गया जब दोनों फाटकों के बीच जल्दबाजी के चक्कर में बैगनार कार फंस गई।
रेलवे विभाग का मालवाहक ट्रैक से गुजरने वाली थी कि गेटमैन ने नजदीक आने की सूचना पर फाटक बंद करने लगा। लोग जल्दी-जल्दी रेलवे फाटक पार करने लगे। इस बीच बैगनार कार जैसे ही पहला फाटक पार किया था कि दोनों फाटक बंद हो गए। बैगनार कार के दोनों फाटकों के बीच बंद हो जाने से गेटमैन सहित वहां मौजूद लोगों में हड़कंप मच गया। यह महज संयोग ही था कि ट्रेन न आकर मालवाहक गाड़ी गुजरी नहीं तो बड़े हादसे से इंकार नहीं किया जा सकता था।
इस समस्या को गंभीरता से लेते हुए राष्ट्रीय पत्रकार समर्पित संघ भारत के मंडल उपाध्यक्ष पिन्टू सिंह ने मंडल रेल प्रबंधक वाराणसी श्री रामश्रय पाण्डेय जी से रविवार को दूरभाष पर बातचीत कर ध्यान आकृष्ट कराया साथही पिन्टू सिंह ने जनहित में इन रेलवे क्रासिंग पर ध्वनि तरंगों एम्बुलेंस सायरन लगाने के लिए सुझाव दिया ताकि लोगों को दूर से ही पता चलें कि रेल पथ पर ट्रेन क्रासिंग पार करने वाली है लिहाजा रेलवे क्रासिंग बंद हो रहे हैं।
बातचीत में डीआरएम ने कहा सुझाव अच्छा है रेलवे विभाग में बात करते हुए कहा कि जल्द ही कुछ करते हैं।
साथही आम लोगों से अपील किया कि रेलवे फाटकों पर जल्दबाजी अच्छी नहीं है। मानव जीवन अनमोल है यातायात नियमों को पालन करें दुर्घटनाओं से बचें जीवन खुशहाल रहेगा।