बलिया। पुलिस अधीक्षक राजकरन नैय्यर पूरी तरह से एक्शन में है। एसपी की सख्ती के चलते संबंधित थानों के थानाध्यक्ष भी हरक्कत में आ गए हैं। बीते दिनों जहां एसपी के नेतृत्व में शराब पीने वालों के खिलाफ कार्रवाई हुई, फिर गौ तस्करों के खिलाफ और अब लाल बालू को लेकर एसपी पूरी तरह से एक्शन में है। इसी के तहत हल्दी पुलिस ने लाल बालू के खिलाफ कार्रवाई करते हुए दो ट्रैक्टर को सीज कर दिया है।

मुखबिर से सूचना मिली थी कि गंगापुर-पचरुखिया में नाव से लाल बालू की तस्करी हो रही है। इस सूचना को संज्ञान में लेते हुए थाना प्रभारी हल्दी आरएस नागर ने तत्काल कार्रवाई करते हुऐ मौके पर पहुंच कर दो ट्रैक्टरों को कब्जे में लेकर सीज कर दिये
थानाध्यक्ष हल्दी आरएस नागर ने लाल बालू के अवैध कारोबारियों पर ताबड़तोड़ छापेमारी शुरू कर दी है । जिससे इस थाना क्षेत्र के लाल बालू के माफियाओ में हड़कम्प मच गया है । लेकिन अफसोस के साथ कहना पड़ रहा है कि अभी तक ऐसा प्रयास गंगा तट के अन्य थानाध्यक्षो के द्वारा नही किया गया है । जिससे अन्य घाना क्षेत्रो में यह बदस्तूर जारी बताया जा रहा है बलिया में एक खनन अधिकारी भी है लेकिन ये क्या करते है, किसी को पता नही चलता है । जीएसटी विभाग है ,इसके अधिकारी लाल बालू की तरफ न जाने किस मजबूरी में ध्यान ही नही देते है । अगर ये ध्यान देते तो पूरे जनपद में लाल बालू के अवैध भंडारण करने वालो पर कार्यवाही होती जिससे लाखो का राजस्व मिलता,लेकिन इनसे इन लोगो का क्या ?
बलिया शहर हो या भरौली से लेकर मांझी तक अवैध रूप से बालू की बिक्री खुलेआम हो रही है लेकिन इन बेचने वालों से कोई यह तक पूंछने वाला नही है कि जब बलिया में लाल बालू निकलता ही नही है तो इनके पास आया कैसे ? इन्होंने ने टैक्स जमा किया है कि नही कोई देखने वाला ही नही है ? या यूं कहें कि लाल बालू के खेल में अंधेर नगरी चौपट राजा , वाली कहावत इससे संबंधित अधिकारियों पर सटीक बैठ रही है ।