आफताब आलम
(बिंद्राबाजार) आजमगढ़ । कोटिला मंगरावां डिग्री कॉलेज मार्ग पर टेकमलपुर के वर्तमान प्रधान सुभाष यादव के घर के सामने की गई, बीते तीन माह पूर्व सड़क की मरम्मत की पोल तब खुल गई जब बरसात होते ही वर्तमान प्रधान के घर के सामने व बीसहम मिर्जापुर पुन: सड़क बड़े बड़े गड्ढों में तब्दील हो गई। गड्ढे में सड़क तब्दील होने से पीडब्ल्यूडी विभाग की लापरवाही उजागर होती जा रही है। कोटिला, मंगरावां डिग्री कॉलेज मार्ग पर पिछले छह महीने से वर्तमान प्रधान टेकमलपुर के घर के सामने बड़े-बड़े गड्ढे होने के कारण आए दिन बाइक सवार गड्ढे में गिरते है व घायल हो जाते हैं, बीसहम मिर्जापुर आधा किलोमीटर सड़क गड्ढों में तब्दील हो गई है। सड़क पर बड़े बड़े गड्ढे हो जाने के कारण अक्सर इनमे दो पहिया व चार पहिया वाहन फंसकर पलट जाते है। पूर्व सड़क पर बने गड्ढों को भरकर उन पर कोलतार व बजरी लगाकर ठीक करने की मात्र रश्म अदायगी की गई थी, जो बरसात होने पर पुन: गड्ढों में सड़क तब्दील हुई दिखाई दे रही है । जिससे अब पुन: इन गड्ढों में फंसकर वाहन स्वामियों का चोटिल होना शुरू हो गया है ।आए दिन मार्ग पर दो पहिया व चार पहिया वाहन चालकों के वाहन पलट रहे हैं, क्योंकि इसका मुख्य कारण यह है कि जब बरसात होती है तब गड्ढों में भरे पानी में यह पता नहीं चल पाता कि सड़क में गड्ढा है या गड्ढे में सड़क है। ग्रामीणों ने बताया कि गड्ढों में जमा गंदे पानी के चलते आवागमन करने वाले ग्रामीणों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। समाजसेवी रेशद बीसहमी ने बताया कि सड़क पर गहरे गड्ढे, कीचडय़ुक्त जमा गंदे पानी के चलते ग्रामीणों विद्यालय में आने-जाने वाले विद्यार्थियों को भी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। गंदे पानी के आम रास्ते में जमा होने से उसमें मच्छरों का झुंड बना रहता है, जिससे बीमारी फैलने का अंदेशा बना रहता है।