👉 कभी ह़क मे तो कभी खिलाफ लिख दूगां
मै आईना हूँ जो भी देखूगा, साफ साफ लिख दूगां 

👉पिन्टू सिंह

(बलिया) यूपी के मऊ जिला चिकित्सालय में 28/8./ 2021को कोविड की दूसरी डोज लेने के बाद तबीयत बिगङ गयी।तीस अगस्त को पस्त होने के बाद चिकनपाक्स(चेचक बङी माता) निकल आयीं।पूरे शरीर पर बङे-बङे फफोले।मतलब अंगारों पर चलने से भी ज्यादा खतरनाक।मुंह,पेट,पीठ,हाथ-पांव,तारू,तलवे कहने का मतलब शरीर का कोई अंग नहीं, जहाँ फफोले न हों।उठना,सोना,खाना,पीना यहाँ तक कि करवटें बदलना सब दुश्वार हो गया है।
आज बारह दिन हो गये।
उत्तर प्रदेश सरकार की सूची में निःशुल्क चिकित्सा सुविधा पाने के लिए पात्र भी हूँ।शासन ने मुझे मान्यता प्राप्त पत्रकार का कार्ड भी दे रखा है।
इसके बावजूद एक अदद सरकारी गोली को तरस रहा हूँ और कार्ड “सियरा पट्टा” की कहावत ही चरितार्थ कर रहा है। कल 10सितम्बर को मेरा जन्मदिन है और आज मैं 12दिनों से असहनीय कष्ट झेलते हुए यह वेदना इसलिए लिखना जरूरी समझा कि आखिर एक मान्यता प्राप्त पत्रकार को मिलने वाली शासकीय सुविधाएं किस दिन रात के लिए बनी हैं।आंखों में आंसुओं का सैलाब लिए यह उल्लेख करना जरूरी है कि “जब करकता है तभी ढरकता है।वरना,यह मैसेज लिखते वक्त आंसुओं की बूंदे मोबाइल की स्क्रीन पर यूँ ही नही टप ,टप, टपक जातीं।
अब तक तो दुष्यंत कुमार की तरह ” हाथों पर अंगारे लिए सोच रहा था,कोई मुझे अंगारों की तासीर बता दे”सोच रहा था।लेकिन,अब पानी नाक से ऊपर की ओर बढ़ने लगा है।शासन-प्रशासन तक व्यवस्थाओं की हकीक़त पहुंचाने से अगर हम चूके तो कहीं चंद दिनों में कफन में लिपटी शरीर किसी घाट के किनारे मुर्दों की कतार में जाकर शामिल न हो जाये।
मैंने अपने आपको कभी मुर्दा नहीं समझा।अत्याचार,भष्ट्राचार,अन्याय के विरुद्ध संघर्ष की हमारी एक पहचान रही है।
इसलिए यूपी के मऊ जनपद मे पत्रकारिता जगत के इतिहास में मुझ ऋषिकेश पाण्डेय का नाम “पत्धर की लकीर” की तरह अमिट रूप से दर्ज है।
पाठक मेरी सनसनीखेज, निष्पक्ष खबरों के कायल रहते थे।लेकिन,उन्हें क्या पता कि मैं कल तक दुसरो को दवा कराता था आज एक गोली तक नसीब नहीं हो रहा है।क्या यही सबका साथ सबका विकास है हुजूर जिन्दगी और मौत के बीच सिर्फ एक तमाशा बनकर रह गया हूँ।
मुझे यकीन है कि यह मैसेज पाकर सरकार कुभंकर्णीय निद्रा से जगेगी जीवन है तो सुख-दुःख आते-जाते रहेंगे।क्योंकि जीवन को सुख-दुख का संगम कहा गया है।यह मैसेज सिर्फ अपने तक सीमित न रखें।प्लीज इसे शासन-प्रशासन तक पहुंचाने में भी मदद करें।यह वक्त मेरे शब्दों की लङियों को एक-एक कर पढने का नहीं है।यह वक्त मानवीय संवेदनाओं की चीखती पुकार को अविलम्ब उचित प्लेटफॉर्म पर पहुंचाने का है।…तो देर किस बात की! मैंने अब तक हर जरुरतमंद की आवाज़ को शासन-प्रशासन तक पहुंचाने का काम किया है।मेरी आवाज़ को आप समाज और शासन-प्रशासन तक पहुंचाने में मदद कीजिये।
इसे ताकि एक मान्यता प्राप्त पत्रकार को मिलने वाली शासकीय सुविधाएं मुझ पत्रकार को समय रहते प्राप्त हो सकें।
खबर को संज्ञान लेने के बाद राष्ट्रीय पत्रकार समर्पित संघ भारत मंडल उपाध्यक्ष पिन्टू सिंह ने ऋषिकेश पाण्डेय से दूरभाष पर बात कर स्वास्थ्य विभाग के उच्चधिकारियों से किया वार्ता ।
शिर्षक खबर को सज्ञान लेते हुए मऊ जिले के जिलाधिकारी अमित सिंह बंसल जी के आदेश पर स्वास्थ्य विभाग की स्पेशल टीम मान्यता प्राप्त पत्रकार के घर दुल्लहपुर आवास पर पहुंच चिकित्सा मुहैया चौदह दिनों बाद युद्ध स्तर पर उपचार चालू।
बताते चलें कि 12 दिनों से जिन्दगी से लड रहे थे दैनिक भास्कर न्यूज डाटकाम सहित सभी मीडियाकर्मियों ने ध्यान आकृष्ट कराने के बाद आनन फानन में शासन प्रशासन ने खबरों को लिया संज्ञान दूरभाष से बातचीत में मंडल उपाध्यक्ष पिन्टू सिंह बातचीत में बतलाया कि राष्ट्रीय अध्यक्ष जगदीश सिंह सहित शासन प्रशासन सहित सभी शुभ चिन्तकों को बहुत – बहुत आभार व साधुवाद करते हैं।