पिन्टू सिंह

(बलिया )उत्तर प्रदेश के बलिया जिले के रसड़ा क्षेत्र में प्रदेश के मुख्यमंत्री का संभावित आगमन को लेकर सभी विभागों मे हडकंप मचा हुआ है।
एक तरफ स्वास्थ्य विभाग के जिम्मेदार अधिकारी ताबड़तोड़ दौरा कर रहे हैं।
तो दूसरी तरफ शिक्षा विभाग के बीएसए भी ताबड़तोड़ दौरा कर रहे है। एक तरफ उत्तर प्रदेश सरकार पढाई व दवाई पर पानी की तरह से पैसा बहा रही हैं ।
सरकार जानती है कि मीशन 2022 नजदीकियां है लोगों के बीच जाकर हाजिरी लगाना है और सबका साथ, सबका विकास के दावे भी करना है।
इसीलिए संभावित आगमन को लेकर वर्षों से रगाई पुताई के अभाव में अपनी ही सरकार मे अपनी बदहाली पर आशुँ बहा रहा था तभी अचानक इन दिनों सीएचसी पर रगाई पुताई चल रहा तो वहीं बीआरसी पकवाइनार में भी रगाई पुताई चल रहा है। बलिया जिले में कभी रोटी कांड , चर्चा में तो कभी नाली कांड चर्चा में है हालांकि विभाग ताबड़तोड़ शिक्षकों को सस्पेंड करने के बावजूद शिक्षकों मे सुधार नहीं हो रहा है।
दैनिक भास्कर न्यूज डाटकाम संवाददाता ने धरातल से सच्चाई दिखाया बावजूद इसके शिक्षा क्षेत्र रसड़ा प्राथमिक विद्यालय रामनगर उर्फ बसनही पर कारवाई मे देर क्यों हो रहा है हुजूर ।
मंगलवार को सुबह से शाम तक खण्ड शिक्षा अधिकारी हिमांशु मिश्रा ,व,बीएसए शिव नारायण सिंह के मोबाइल पर बार बार फोन किया गया ताकि खबर का फालोअप भेजा जा सकें मगर दोनों जिम्मेदार अधिकारियों ने फोन नहीं उठाया ।
शिक्षा मंत्री जी बलिया जिले के जिम्मेदार अधिकारियों का हाल यह है कि शिक्षा विभाग अपने उदासीनता के कारण शासन की योजनाओं पर गंभीरतापूर्वक नहीं दिखा रहे हैं जिससे परिषदीय स्कूलों में धीरे-धिरे भष्ट्राचार का केन्द्र बनता जा रहा है ।