पिन्टू सिंह
(बलिया) एक तरफ जहां शासन हर व्यक्ति को कोविड का टीका लगाने के लिए संकल्पित है लाखों रुपए विज्ञापन पर खर्च किया जा रहा है वहीं दूसरी तरफ स्वास्थ्य विभाग के जिम्मेदार अधिकारियों की उदासीनता के चलते लोगों को स्वास्थ्य केंद्रों से बगैर टीका लगायें ही लौटना पड़ा ।
जी ,हाँ ऐसी ही स्थिति जिलाअस्पताल सहित सीएचसी, पीएससी पर रही सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के बाहर लोग चिलचिलाती धूप में वैक्सिनेशन टीम का घंटों इंतजार करते रहे मगर सुई के अभाव में लोगों को लौटना पडा।
टिका लगाने के लिये सैकडों लोगों को मायूस लौटना पड़ा ।
हालांकि रसड़ा क्षेत्र में स्वास्थ्य विभाग अपनी नाकामी छुपाने के लिए बाहर बाहर रगाई पोताई कराया जा रहा है।
मुख्यमंत्री का संभावित आगमन इसी महिने मे है इस क्षेत्र की जनता को चाहिए कि भष्ट्राचार का पोल खोलने के लिए सभा में एक स्वर में हाथ उठाकर यहा कि स्वास्थ्य विभाग के वर्तमान स्थिति को जरूर बतलाना चाहिए।
इसलिए सरकार तो लोगों के प्रति जागरूक है इसिलए स्वास्थ्य पर पानी की तरह पैसा बहा रही है ताकि कोविड का टीकाकरण सभी को लग जाये मगर जिम्मेदार अपनी जिम्मेदारियों 12 वर्षों से नहीं समझ पा रहे हैं अब कब समझेंगे ।
हालांकि इस सीएचसी से काफी लोगों का मोहभंग नहीं हो रहा है।
चर्चा तो यहा तक है कि यहा के लिपिक अनिल सिह का स्थातरण मुरली छपरा हो गया है मगर आज भी सीएचसी पर ही टहल रहे हैं।
हालांकि वर्तमान सरकार के प्रभारी मंत्री का ताबड़तोड़ दौडा भी कर रहे हैं मगर स्वास्थ्य विभाग पर नजर नहीं दौडा रहे हैं।