(बलिया) यूपी के बलिया लखनऊ नेशनल हाईवे पर स्थित मंगलवार को शहीद भगत सिंह की जयंती के अवसर पर क्रांतिकारी स्मारक समिति उत्तर प्रदेश के तत्वाधान में रसड़ा भगत सिंह स्मारक स्थल पर स्थापित प्रतिमा पर

माल्यार्पण कर तत्पश्चात समिति के कार्यालय पर एक गोष्ठी का आयोजन कर उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित गई।
कृष्णानंद पांडेय ने शहीद भगत सिंह के व्यक्तित्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि भगत सिंह क्रांति के प्रतीक थे अंग्रेजी साम्राज्यवाद के खिलाफ क्रांति के माध्यम से बगावत की जो बिगुल बजाया था उससे स्वतंत्रा आंदोलन को एक नई क्रांति मिली थी।
फांसी के पूर्व अदालत में क्रांति की व्याख्या शहीद भगत सिंह ने की थी और निर्भीकता के साथ आजाद भारत को जो स्वरूप प्रस्तुत किया था वह इतिहास की एक धरोहर है ‌ ।
आवश्यकता है आज उनके जीवन दर्शन से प्रेरणा लेकर युवाओं को उनके सपनों के भारत निर्माण करे व्यक्ति द्वारा व्यक्ति का शोषण ना हो। सबको जीने का अधिकार प्राप्त हो उनके आदर्श पर चलकर ही राष्ट्र को उन्नत के शिखर पर ले जाया जा सकता है ।
इस अवसर पर कृष्णानंद पांडेय श्री प्रकाश गुप्ता दुर्गेश त्रिपाठी , मृत्युंजय जयसवाल ,आदि