बलिया: जिले में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी व लालबहादुर शास्त्री जी की जयंती धूमधाम से मनाई गई। इस अवसर पर सभी सरकारी व गैर सरकारी संस्थानों पर झंडारोहण किया गया। जिलाधिकारी न्यायालय कक्ष में रामधुन व गोष्ठी का भी आयोजन हुआ, जिसमें दोनों महापुरुषों के व्यक्तित्व व कृतित्व पर चर्चा की गई।

जिलाधिकारी ने अपने सम्बोधन में महात्मा गांधी व शास्त्री जी के पदचिन्हों पर चलने का सन्देश दिया। उन्होंने गांधी जी के तीन बंदरों की चर्चा करते हुए कहा कि निश्चित रूप से हम सब कुछ पुराने संस्कारों व मूल्यों को भूलते जा रहे हैं। बुरा मत सोचो, बुरा मत करो और बुरा मत देखो में एक और बात जोड़ने हुए जिलाधिकारी ने कहा कि अगर बुरा देखते हैं तो यह जरूरी है कि उसको रोकने का प्रयत्न जरूर करें। वहां मौजूद सभी अधिकारियों-कर्मचारियों से आवाह्न किया कि सच्चाई, अहिंसा, शांति के मूल्यों पर चल कर आगे बढ़े। जिम्मेदार पद पर जो हैं, उनको विशेष संदेश देते हुए कहा कि ईश्वर ने बड़ी भाग्य से हम सबको यह मौका दिया है। इस पुनीत अवसर का लाभ उठाएं और अपनी जिम्मेदारी का निर्वहन ठीक ढंग से करके लोगों की सेवा करें। सीआरओ ने कहा कि जो जहां है, जिस क्षेत्र में है, उस क्षेत्र में बेहतर करने का प्रयास करें, यही इन दोनों महापुरुषों के प्रति सच्ची श्रद्धांजलि होगी। अपर जिलाधिकारी राजेश कुमार व सिटी मजिस्ट्रेट प्रदीप कुमार ने भी गोष्ठी को सम्बोधित किया। इस अवसर पर डिप्टी कलेक्टर राजेश यादव, सीमा पाण्डेय, मोतीलाल यादव, गुलाब चन्द्रा सहित सभी कलेक्ट्रेट स्टाफ मौजूद थे।