बलिया।अंतर्राष्ट्रीय आपदा जोखिम न्यूनीकरण दिवस के अवसर पर जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की ओर से आपदा जोखिम न्यूनीकरण विषयक वेबिनार का आयोजन किया गया। इसमें डाई फ्रेमवर्क के सात वैश्विक लक्ष्य एवं चार प्रमुख कार्यों के साथ प्रधानमंत्री के आपदा जोखिम न्यूनीकरण के 10 विंदु एजेंडा पर चर्चा की गई।

वेबिनार में मुख्य अतिथि डिप्टी कलेक्टर गुलाब चंद्रा ने बताया कि जनपद बलिया कई प्रकार की आपदाओं से प्रभावित होता है इसको दृष्टिगत रखते हुए समुदाय को जागरूक करने एवं उन्हें प्रशिक्षित किए जाने की कार्य योजना जिला आपदा प्राधिकरण के द्वारा तैयार की जा रही है। इस योजना के दायरे में आपदा प्रबंधन के सभी चरण शामिल हैं। यह योजना सरकारी विभागों गैर सरकारी संस्थाओं,पंचायत और शहरी स्थानीय निकायों से समन्वय स्थापित कर तैयार किया जा रहा है जिसमें पूर्व सूचना,सूचना का प्रसारण,चिकित्सा सेवा,यातायात,खोज बचाव आदि जैसी प्रमुख गतिविधियां शामिल हैं। समुदाय को आपदा का मुकाबला करने में सक्षम बनाने के लिए इस योजना में सूचना,शिक्षा और संचार गतिविधियों को भी शामिल किया जा रहा है। आपदा विशेषज्ञ पीयूष कुमार सिंह ने कहा कि विकास के सभी क्षेत्रों में हमें आपदा न्यूनीकरण प्रबंध के सिद्धांतों को आत्मसात करना होगा। बेवीनार में नायब तहसीलदार अजय सिंह,राजेंद्र प्रसाद,अजहर अली, बृजेश पांडे,सुनील कुमार के साथ तहसीलों के राजस्व विभाग के कर्मियों एवं अन्य विभागों के आपदा प्रबंधन से जुड़े कर्मियों ने प्रतिभाग किया।

बलिया।अंतर्राष्ट्रीय आपदा जोखिम न्यूनीकरण दिवस के अवसर पर जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की ओर से आपदा जोखिम न्यूनीकरण विषयक वेबिनार का आयोजन किया गया। इसमें डाई फ्रेमवर्क के सात वैश्विक लक्ष्य एवं चार प्रमुख कार्यों के साथ प्रधानमंत्री के आपदा जोखिम न्यूनीकरण के 10 विंदु एजेंडा पर चर्चा की गई।
वेबिनार में मुख्य अतिथि डिप्टी कलेक्टर गुलाब चंद्रा ने बताया कि जनपद बलिया कई प्रकार की आपदाओं से प्रभावित होता है इसको दृष्टिगत रखते हुए समुदाय को जागरूक करने एवं उन्हें प्रशिक्षित किए जाने की कार्य योजना जिला आपदा प्राधिकरण के द्वारा तैयार की जा रही है। इस योजना के दायरे में आपदा प्रबंधन के सभी चरण शामिल हैं। यह योजना सरकारी विभागों गैर सरकारी संस्थाओं,पंचायत और शहरी स्थानीय निकायों से समन्वय स्थापित कर तैयार किया जा रहा है जिसमें पूर्व सूचना,सूचना का प्रसारण,चिकित्सा सेवा,यातायात,खोज बचाव आदि जैसी प्रमुख गतिविधियां शामिल हैं। समुदाय को आपदा का मुकाबला करने में सक्षम बनाने के लिए इस योजना में सूचना,शिक्षा और संचार गतिविधियों को भी शामिल किया जा रहा है। आपदा विशेषज्ञ पीयूष कुमार सिंह ने कहा कि विकास के सभी क्षेत्रों में हमें आपदा न्यूनीकरण प्रबंध के सिद्धांतों को आत्मसात करना होगा। बेवीनार में नायब तहसीलदार अजय सिंह,राजेंद्र प्रसाद,अजहर अली, बृजेश पांडे,सुनील कुमार के साथ तहसीलों के राजस्व विभाग के कर्मियों एवं अन्य विभागों के आपदा प्रबंधन से जुड़े कर्मियों ने प्रतिभाग किया।