राजेश सिंह
अतरौलिया नगर पंचायत में पूर्णमासी के दिन लगने वाला 3 दिवसीय मेला इस बार 20 अक्टूबर दिन बुधवार को पड़ रहा है, जिसकी तैयारियां दुर्गा पूजा समिति द्वारा तेजी से शुरू कर दिया गया है । वही दूर-दूर से आने वाली दुकानें भी लगनी शुरू हो गई है। पांडाल को मूर्त रूप देने के लिए बाहर से कारीगर बुलाए गए हैं। पूरे नगर पंचायत को विद्युत झालरों से सजाया जा रहा है, जिसमें मुख्य रुप से जयसवाल त्रिमुहानी, शंकर जी त्रिमुहानी ,मुसाफिर चौक, गोला क्षेत्र, बरन चौक, राम जानकी मंदिर, दुर्गा मंदिर, सहित दो दर्जन से अधिक मूर्तियां स्थापित की जाती है । मेले को लेकर प्रशासनिक व्यवस्था भी की गई है, तो वहीं मेले के दौरान उपाधियों पर सख्त नजर रखने के लिए अतिरिक्त थानों की फोर्स बुलाई गई है। नगर पंचायत में लगने वाला ऐतिहासिक मेला काफी पुराना है इस मेले में शहरी तथा ग्रामीण क्षेत्रों के लोग भारी संख्या में मेला देखने आते हैं । लगातार तीन दिनों तक चलने वाले इस मेले के दौरान शांतिपूर्वक ढंग से मूर्तियों का विसर्जन किया जाता है, जिसके लिए नगर पंचायत द्वारा पहले से ही स्थान चिन्हित किया गया है। शंकर त्रिमुहानी मूर्ति के व्यवस्थापक टीटू विनायकर ने बताया कि हमारे बाप दादा के जमाने से मूर्तियां स्थापित की जाती थी उसी परंपरा को हम लोगों द्वारा नई पीढ़ियां नए नए लुक और नई-नई मूर्तियों को लगाने का कार्य कर रहे है, तो वही नए डिजाइन के पंडाल को मूर्त रूप दिया जाता है जो दर्शनार्थियों को अपनी ओर आकर्षित करता है। इस बार पूर्णमासी को लगने वाला मेला 20 अक्टूबर को पड़ रहा है जिसके अंतर्गत सारी तैयारियां पूरी की गई  है तथा पांडाल को दिन रात मेहनत कर कारीगरों द्वारा भव्य बनाया जा रहा है।