राजेश सिंह
आजमगढ़ । अतरौलिया नगर पंचायत में लगने वाला 3 दिवसीय मेला पूर्णमासी के दिन प्रारंभ होता और तीन दिनों तक चलता है, हालांकि पहले दिन बारिश की वजह से मेलार्थियों की भीड काफी कम रही, तो वहीं देर शाम तक मूर्तियां स्थापित की जा रही थी। बारिश  के कारण मूर्ति निर्माण में लगे कारीगरों ने रात दिन अथक प्रयास करके किसी तरह से दुर्गा पूजा पंडालों की सजावट  को अंतिम रूप दिया। एक दिन पहले हुई बारिश मेला की तैयारी में बाधक रही । अतरौलिया मेला बहुत प्राचीन मेला है जिसमें शहरी तथा ग्रामीण क्षेत्रों से लाखों की संख्या में लोग पहुंच कर मेले का आनंद लेते हैं और जमकर खरीदारी करते हैं । नगर पंचायत के मेले में क्षेत्र के दर्जनों गांव के लोग बड़ी संख्या में मेला देखने के लिए आते हैं। यह ऐतिहासिक मेला शनिवार तक चलेगा, 23 अक्टूबर को प्रतिमाओ का विसर्जन प्रशासनिक मौजूदगी में कराया जाएगा। अतरौलिया मेला में लगभग दो दर्जन मां दुर्गा के छोटे बड़े पंडाल बनाये गए हैं। नगर पंचायत में मेले के दौरान भक्तिमय गीतों से वातावरण गुंजित हो रहा है। मेले में बच्चे बूढ़े और जवान सभी लोगों की भारी भीड़ जुटनी शुरू हो गई है तथा यह मेला रात और दिन चलता रहता है। तीन दिवसीय मेले के दौरान बाहर से आई सैकड़ों दुकानें सड़क किनारे दोनों पटरियों पर लगी हुई है तो वही नगर पंचायत में भी दुकानों को सजाया गया है सभी दुकानों पर लोगों की भारी भीड़ लगी है,साथ ही साथ विद्युत झालरों से पूरा नगर पंचायत नहाया हुआ है। मेले में सभी मूर्तियों के आसपास सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं तो वही नगर पंचायत में आने वाले सभी मार्गों पर पुलिस ड्यूटी लगाई गई है, तथा छोटी व बड़ी गाड़ियों का प्रवेश वर्जित किया गया है। मेला समिति के लोगों द्वारा पांडाल के आसपास वालंटियर तैनात किए गए हैं जिससे मेलार्थियों को किसी भी प्रकार की दिक्कत ना हो। चारों तरफ दुर्गा मां के जयकारे से गलियां गुंजायमान हो रही हैं, तो वहीं डीजे की धुन पर भक्तिमय गीत वातावरण में गूंज रहे। सभी मूर्ति कलाकारों द्वारा मूर्तियों के साज-सज्जा को मूर्त रूप दिया जा चुका है ।नगर पंचायत का ऐतिहासिक मेला जनपद का चर्चित मेला है। मेले में किसी प्रकार की अराजकता ना पैदा हो, जिसके लिए स्वयं प्रभारी निरीक्षक राजेश कुमार सिंह चक्रमण करते नजर आए। सुरक्षा के दृष्टिकोण से पुलिस प्रशासन द्वारा व्यवस्था की गई है। प्रभारी निरीक्षक राजेश कुमार सिंह ने बताया कि स्थानीय थाने के अलावा जिले के अन्य थानों से लगभग 65 की संख्या में सब इंस्पेक्टर और पुलिसकर्मी बुलाए गए हैं। मेले के प्रत्येक चौराहे प्रत्येक नाके पर पुलिस की ड्यूटी लगाई गई है । मेले में पूरी तरह से शांति व्यवस्था बनी रहे ,किसी प्रकार की अराजकता ना होने पाए इसके लिए पुलिस प्रशासन हमेशा चौकस रहेगा।