मंत्री उपेन्द्र तिवारी व आनंद स्वरूप शुक्ल हुए शामिल

बलिया। आजादी का अमृत महोत्सव कार्यक्रम के अंतर्गत बहुउद्देश्यीय सभागार में शुक्रवार को आयोजित स्वच्छता संगोष्ठी कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि उपेंद्र तिवारी व विशिष्ट अतिथि आनंद स्वरूप शुक्ल ने प्रतिभाग किया।कार्यक्रम में स्वच्छता और इसके लाभ पर चर्चा की गई। सरकार की उपलब्धियों व योजनाओं की भी विस्तृत जानकारी दी गई।कोविड महामारी व अन्य संचारी रोगों पर नियंत्रण के लिए पूरी तन्मयता के साथ छिड़काव व सेनेटाइजेशन के लिए सफाईकर्मियों व ग्राम स्तर से कर्मचारियों को विशेष रूप से धन्यवाद ज्ञापित किया गया।
मंत्री श्री तिवारी ने कहा कि पीएम मोदी के नेतृत्व में स्वच्छता जनांदोलन का परिणाम आज सबके सामने है। आज का बच्चा चॉकलेट खाने के बाद प्लास्टिक कवर फेंकने के लिए डस्टबिन खोजता है। प्रयागराज में हुए महाकुम्भ में भी स्वच्छता का अनूठा उदाहरण देखने को मिला।आवाह्न किया कि स्वच्छता अभियान की शुरुआत खुद व अपने घर से करने की आवश्यकता है।उन्होंने कहा कि अमृत महोत्सव के अवसर पर 75 सप्ताह तक,यानी 15 अगस्त, 2023 तक केंद्र व राज्य सरकार की योजनाओं के प्रति गांव-गांव जागरूकता अभियान चलाकर हर पात्र को लाभान्वित करने का प्रयास होगा।आजादी की लड़ाई में पूरे देश के शहीदों की मूर्ति पर माल्यार्पण व पुष्प अर्पित किया जा रहा है। पूरे अक्टूबर महीने प्लास्टिक मुक्त भारत बनाने का अभियान चल रहा है।
राज्यमंत्री आनंद स्वरूप शुक्ल ने कहा कि स्वस्थ मानव जीवन के लिए स्वच्छता सबसे आवश्यक है।सीएम योगी आदित्यनाथ के विशेष प्रयास से गोरखपुर में जापानी इन्सेफिलाईटिस जैसी गंम्भीर व जानलेवा बीमारी पर स्वच्छता के माध्यम से ही काबू पाया जा सका।कई अन्य गम्भीर बीमारी पर भी रोकथाम हो सकती है,अगर स्वच्छता के आयामों का पालन किया जाए।गांव-गांव में लोगों को अपने व्यवहार में परिवर्तन लाना होगा और स्वस्थ जीवन के लिए स्वच्छ रहना जरूरी होगा।
सीडीओ प्रवीण वर्मा ने ‘क्लीन इंडिया’ की चर्चा करते हुए गांवों में स्वच्छता बनाए रखने के लिए महत्वपूर्ण विदुओं को प्रधान, सचिव,सफाईकर्मी आदि से साझा किया। अंत में सभागार में मौजूद सभी को स्वच्छता की शपथ दिलाई गई। कार्यक्रम में विधायक सिकन्दरपुर संजय यादव,विधायक बेल्थरा धनंजय कन्नौजिया, डीपीआरओ अजय श्रीवास्तव,जिला खेल अधिकारी अतुल सिन्हा,बीडीओ सीयर गजेंद्र प्रताप,डीपीसी शैलेशओझा,सभी प्रधान समेत सभी पंचायत व ग्राम्य विकास से जुड़े कर्मचारी मौजूद थे। संचालन जिला स्वच्छता सलाहकार इसरार अहमद ने किया।