वक्त से लड़कर जो नसीब बदल दे

इंसान वहीं जो तकदीर बदल दे

कल क्या होगा कभी मत सोचो
क्या पता कल वक्त खुद.शिक्षकों का तस्वीरे बदल दे

(बलिया) यूपी के बलिया प्राथमिक शिक्षक संघ के आह्वान पर सरकारी स्कूलों में तालाबंदी कर शिक्षक, शिक्षामित्र व अनुदेशक तथा कर्मचारी बीएसए कार्यालय परिसर में शिक्षक छावनी में तबदील कर बड़ी संख्या में पहुंचे धरनास्थल पर बलिया बीएसए शिवनारायण सिंह के खिलाफ नारेबाजी किया जा रहा है। आंदोलित शिक्षकों की उमड़ी भीड से धरनास्थल पर जगह कम पड़ती दिख रही है। सभा मंच से कहा जा रहा है कि बीएसए शिक्षक को साधारण समझने की भूल न करें।
यह बागी बलिया का बेसिक शिक्षा परिवार चट्टान की तरह है।
👉यह आंदोलन तब तक जारी रहेगा, जब तक की उनकी मांगें पूरी नहीं हो जाती।
👉वहीं, प्राशिसं के जिलाध्यक्ष जितेन्द्र सिंह ने कहा है कि जरूरत पड़ी तो बागी धरती के सभी सरकारी कार्यालयों में भी तालाबंदी होगी। 
उधर, बीएसए कार्यालय पर उमड़ी भीड़ की वजह से बलिया मे जाम की झाम स्थिति उत्पन्न हो गई है।
👉वहीं तालाबंदी के कारण बच्चों ने स्कूल पहुचकर गुरु शिष्यों की परम्परा को बरकरार रखा।
देखना है आने वाले दिनों में अधिकारी जाते हैं या शिक्षक धरना प्रदर्शन बंद कर शिक्षा के मन्दिर मे लौटते हैं।
यह तो आने वाला समय ही बतलाया वैसे बलिया का इतिहास रहा है आन्दोलन मे हमेशा आगे रहा है और इश्वर ने चाहा तो फिर एकबार शिक्षा के मन्दिर मे चहलपहल बढ जायेगा।