रतसर,बलिया। स्तन कैंसर महिलाओं में होने वाले सबसे प्रमुख कैंसर है। भारत की बात करे तो स्तन कैंसर को लेकर जागरुकता में कमी तथा महिलाओं में इस रोग को लेकर जांच सम्बन्धी विभिन्न प्रकार के आयोजनों व गतिविधियों में कमी के चलते तथा सही समय पर इलाज ना हो पाने के कारण हर साल बहुत सी महिलाएं अपने जीवन से हाथ धो बैठती है। स्तन कैंसर के क्षेत्र में काम कर रही हिलिंग फिल्ड्स फाउण्डेसन हैदराबाद के सहयोग से सोमवार को स्थानीय सीएचसी पर डा.राकिफ अख्तर के निर्देशन में स्तन कैंसर शिविर का आयोजन किया गया। शिविर में ग्रामीण क्षेत्रों से आयी 40 महिलाओं की स्क्रीनिंग एवं जांच की गई। कार्यक्रम प्रबन्धक प्रशिक्षण दिलीप कुमार गुप्ता ने बताया कि जनपद में सीयर एवं गड़वार ब्लाक के 92 गांवों में यह अभियान 31 अक्टूबर तक चलाया जाएगा। कहा कि सामुदायिक स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के माध्यम से ग्रामीण समुदाय की महिलाओं को स्तन कैंसर के स्वयं मुल्यांकन के तरीको को बताना है ताकि समय से इलाज करा सके। संस्था जनपद में स्वास्थ्य,स्वच्छता व पोषण पर विगत दस वर्षो से कार्य कर रही है। सहायक कार्यक्रम प्रबन्धक मुसर्रत जहां ने बताया कि महिलाओं में स्तन कैंसर की गंभीरता को जन- जन तक पहुंचाने, लोगों को इस संबन्ध में बात करने के लिए मुखर होने का प्रयास करने तथा महिलाओं में स्तन कैंसर के शुरुआती लक्षण नजर आने पर चिकित्सीय सलाह लेने के लिए प्रेरित करने का उद्देश्य लेकर हिलिंग फिल्ड्स फाउण्डेसन कार्य कर रही है। इसके पूर्व कार्यक्रम की शुरुआत दीप प्रज्ज्‍वलित कर किया गया।इस अवसर पर कार्यक्रम सहायक सूर्यबली यादव, यूनीसेफ से नसीम जी,एनएचएम से अभिषेक जी, डा. सोफिया, डा. कादिर बीसीपीएम अनिल कुमार, बीटी विभाग से अमित जी,आशा संगिनी मीरा,किरन, सुनीता,सन्जू सहित आशा कार्यकर्ता मौजूद रहे।