बृजेश सिंह, अंबेडकर नगर।
पूर्वांचल में अपना व्यापक जनाधार रखने वाले बसपा के दो कद्दावर नेताओं के निष्कासन के बाद प्रदेश की सत्ता एवं विपक्ष दोनों में हलचल है । नजदीक आ रहे विधानसभा चुनाव को देखते हुए गृह जनपद ही नहीं पड़ोसी जनपदों के दावेदारों के समीकरण बिगड़ने लगे हैं । अपने सियासी जिंदगी का तीन दशक तक तय कर चुके नेताओं द्वारा अपने बचाव हेतु मजे हुए खिलाड़ियों की भांति हर कदम फूंक-फूंक कर रख रहे हैं । आज इन नेताओं के राजधानी कूच करते ही जनपद की सियासी हवा गर्म हो गई। सपा में शामिल होने की चर्चा भी गति पकड़ ली। लोगों के सामने भ्रामक खबरें जाने लगी पर नतीजा कुछ और निकला । आज प्रदेश कार्यालय पर जनपद के दोनों सियासी पूर्व कैबिनेट मंत्री राम अचल राजभर और लालजी वर्मा पहुंचकर समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष के प्रति अपना समर्थन व्यक्त करते हुए उन्हें जनपद के मुख्यालय स्थित भानुमति महाविद्यालय में आगामी 7 नवंबर को आयोजित की जा रही सत्ता परिवर्तन जनादेश रैली का मुख्य आतिथ्य स्वीकार करने के लिए आग्रह किया।  जिसे सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने स्वीकार कर लिया और उनके प्रति आभार व्यक्त किया । पूर्व मंत्री लालजी वर्मा की आगामी 7 नवंबर को आयोजित रैली में जनादेश का सम्मान करते हुए समाजवादी की राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव की मौजूदगी में लिया जाएगा।