राजेश सिंह
आजमगढ़ । दीपावली पर्व के अवसर पर बाजारों में जमकर भीड़ उमड़ी और लोगों ने जमकर खरीदारी की। दीपावली के अवसर पर लोगों ने जहां मिठाइयां खरीदी तो आतिशबाजी में भी लोगों ने रिकॉर्ड तोड़ा । पटाखे की दुकानों पर सबसे अधिक भीड़ दिखाई दी । दीपावली पर्व के अवसर पर महंगाई का असर साफ दिखाई दिया, जहाँ लोगों ने तेल की बढ़ती कीमतों की वजह से विद्युत झालरों की तरफ अपना रुख किया, तो वही मिट्टी के दीए बेचने वाले गरीब ग्राहकों का इंतजार करते नजर आए। दुकानें सुबह से ही सज चुकी थी, और ग्राहकों ने जमकर खरीदारी की। लक्ष्मी गणेश की प्रतिमाओं पर महंगाई का असर दिखा, जहां महंगी मूर्तियों से लोगों ने दूरी बनाई तो सस्ती मूर्तियों की खरीदारी हुई । लाई, चूड़ा, गट्टा के विक्रेताओं की मायूसी देखकर लगा कि कोरोना काल के बाद महंगाई का साफ असर दिखाई दे रहा है, वहीं मिष्ठान विक्रेताओं में भी यह उम्मीद थी कि पहले की अपेक्षा इस बार कुछ अधिक बिक्री होगी, लेकिन महंगाई सब पर भारी रही। मिष्ठान विक्रेता भी मायूस नजर आये, तो वहीं चीनी से बने हाथी घोड़े की मिठाईयां लोगों ने खरीदी । सुबह से बाजारों में चहल-पहल रही देर शाम तक जाम की स्थिति बनी रही, वही प्रशासनिक व्यवस्था भी प्रभारी निरीक्षक द्वारा कराई गई थी, जहां हर नाके पर पुलिसकर्मी मौजूद रहे। दीपावली पर्व पर आस्था के आगे महंगाई का असर तो नहीं रहा, लेकिन गरीब लोगों को महंगे सामान खरीदना बहुत ही मुश्किल रहा। विद्युत झालरों से पूरा नगर पंचायत जगमगा रहा था, और ग्रामीण अंचलों से आने वाले ग्राहकों की वजह से बाजारों में जाम की स्थिति बनी रही, दीपावली के शुभ अवसर पर लोगों ने अपनी अपनी जरूरत के सामानों की जमकर खरीदारी की। पूरे नगर पंचायत में मेले जैसा माहौल बना रहा, देर शाम तक लोगों की जमकर भीड़ रही .