बाँसडीह (बलिया) सरकार द्वारा किसानों की समस्या पर भले ही ख्याल रखा जाता है। लेकिन धांधली करने वाले बाज नही आते।जिले के बांसडीह तहसील अंतर्गत सहतवार में भी ऐसा ही कुछ हुआ। बता दें कि किसानों को महंगे रेट से खाद बेचने की शिकायत पर एस डी एम सीमा पाण्डेय और जिला कृषि अधिकारी विकेश पटेल एक साथ सहतवार खाद की दुकान पर जा धमके। पहुंचते ही दुकानदार भाग निकला। ऐसे में खाद्य भण्डार सहतवार पर कार्रवाई करते हुए सील कर दिया गया।

2022 विधानसभा चुनाव होने में अब कुछ ही माह शेष बचे हैं। यूपी सरकार या शासन , प्रशासन हर क्षेत्र में सख्ती बरत रहा है। जानकारी के अनुसार जिले के बांसडीह तहसील क्षेत्र के सहतवार में महंगा रेट से खाद बेचने की शिकायत मिलने पर मंगलवार की शाम एसडीएम सीमा पाण्डेय तथा जिला कृषि अधिकारी एक्शन में आ गए। पहले SDM ने अपने अर्दली को किसान के रूप में उस दुकान पर भेजा।अर्दली मनोज कुमार ने दुकानदार से रेट पूछकर खाद मांगा। दुकानदार ने खाद महंगी दर पर देने की जैसे ही बात कही। वहीं अर्दली द्वारा संकेत मिलते ही एसडीएम सीमा पाण्डेय एवं जिला कृषि अधिकारी विकेश पटेल तुरंत दुकान पर पहुंच गए। अधिकारियों को देख दुकानदार अभिषेक कुमार भाग निकला। इससे न केवल सहतवार बल्कि अन्य जगहों के खाद दुकानदारों में खलबली मच गई है। जिला कृषि अधिकारी विकेश ने बताया कि खाद गोदाम को सील कर दिया गया है।नियमानुसार कर्मचारियों की ड्यूटी लगाकर खाद की विक्री कराई जायेगी। किसानों को खेती के समय कोई समस्या न आए इस पर विशेष ध्यान रखा गया है।

किसान ही नही बल्कि कोई भी पीड़ित अपनी समस्या आकर बताए हर संभव मदद होगी “-  एसडीएम सीमा पांडेय,

बांसडीह एसडीएम सीमा पांडेय ने कहा कि किसान हमारे अन्नदाता हैं।और खाद वैगरह की समस्या पर अगर कोई शिकायत है तो तुरंत संज्ञान में दिया जाए।ताकि उसका तुरंत समाधान निकाला जा सके।उन्होंने अपील किया कि आपसी प्रेम से किसी विवाद को खत्म किया जा सकता है।अगर कोई समस्या है तो पीड़ित अपनी बात खुद आकर कार्यालय अवधि में बता सकता है।साथ सर्किल ऑफिसर प्रीति त्रिपाठी ने कहा कि क्षेत्र में विवाद को तूल न देकर समस्या का समाधान ही उचित रास्ता है। कानून मजाक कतई बर्दाश्त नही किया जायेगा।