👉बिना डिग्री व लाइसेंस के रसड़ा ,नगरा मे धडल्ले से हो रहे आपरेशन

👉पिन्टू सिंह
(बलिया) उत्तर प्रदेश बलिया जनपद सहित रसड़ा क्षेत्र में इन दिनों खूब लहलहा रही है झोलाछाप डाक्टरों कि खेती
मानव जीवन कितना मूल्यवान है, यह सभी जानते है।
फिर भी जनपद सहित रसड़ा नगरा तहसील क्षेत्र में स्वास्थ्य विभाग के उच्चधिकारियों के सह पर काफी स्थानों पर बिना मान्यता के तमाम झोलाछाप अवैध नर्सिंग होम बढते चले जा रहे हैं मरीजों को गुमराह करके उनकी जिंदगी से खिलवाड़ कर रहे हैं।
नतीजा यह है कि बिना डिग्री व बिना आपरेशन लाइसेंस के ही झोला छाप चिकित्सक मरीजों का आपरेशन कर दे रहे हैं।
नतीजा मरीजों की प्रसव के दौरान मरीजों की जान तक भी चली जा रही हैं।
बावजूद प्रशासनिक अधिकारी अवैध नर्सिंग होम व झोलाछाप
चिकित्सकों के खिलाफ कोई भी कारवाई करने से गुरेज कर रहे हैं जो विभागीय अधिकारियों की लापरवाही को बताने के लिए काफी है।
रसड़ा कोतवाली क्षेत्र अन्तर्गत सोमवार को अवैध नर्सिंग होम साक्क्षीता में आपरेशन के बाद प्रसूता महिला प्रियंका देवी की मौत इसका प्रत्यक्ष प्रमाण हैं।
आखिरकार मौत का सिलसिला रसड़ा में कब थमेगा हुजूर।
अवैध रूप से रसड़ा में चल रहे नर्सिंग होमो के खिलाफ कब तक कार्रवाई होगी यह तो वक्त ही बतलायेगा किन्तु प्रशासनिक उदासीनता का आलम यहीं रहा तो लोग झोलाछाप चिकित्सकों के चंगुल में फसकर अपनी जान गंवाते रहेंगे।
👉वहीं दैनिक भास्कर न्यूज डाटकाम संवाददाता ने अधीक्षक वीरेन्द्र कुमार के मोबाइल नंबर पर काफी प्रयास किया उनका पक्ष जानने का मगर अधीक्षक ने फोन उठाने की जहमत नहीं उठाया।
👉12 वर्षों से रसड़ा सीएचसी पर अधीक्षक जमें हैं।
फिर संवाददाता ने मुख्य चिकित्साधिकारी तन्मय कक्कड़ से दूरभाष पर घटना को ध्यान आकृष्ट कराते हुए उनका पक्ष जानकारी करना चाहा तो उन्होंने कहा कि दो दिन के अन्दर जनपद में भ्रमण कर ताबड़तोड़ अवैध चिकित्सकों के खिलाफ होगीं बडी कार्रवाई।
वहीं हर बार कि भाति इस बार भी महिला की मौत मामले में आरोपी चिकित्सक व भंडारी टाइप के नेताओं ने लेन देन कर पूरा मामला को रफा दफा करा दिया।