चितबड़ागांव बलिया। विगत 14 नवंबर रविवार सुबह 3:00 बजे से ही कस्बे के वार्ड नंबर 3 अंबेडकर नगर निवासी शोभा देवी (50 वर्ष) पत्नी रमेश गुप्ता जो परिजनों के कथनानुसार घर से टहलने के लिए निकली थी पर शाम तक घर वापस नहीं लौटी। परिजनों को तलाश करते समय टोंस नदी के किनारे उनका चप्पल एवं कपड़ा मिला था जिसको लेकर परिजन डूबने की आशंका जता रहे थे। थाना प्रभारी निरीक्षक निहार नंदन कुमार ने 16 नवंबर मंगलवार को सुबह 10:00 बजे 3 गोताखोरों को बुलाकर नदी में पड़े हुए चार-चार पांच पीपों के चारों तरफ तलाश कराया था लेकिन गोताखोरों को बैरंग ही लौटना पड़ा था। 17 नवंबर बुधवार को रमेश गुप्ता का पुत्र आशीष गुप्ता को रामपुर चिट के सामने टोंस नदी के किनारे तलाश करते समय दोपहर 1:30 बजे के करीब एक शव दिखाई दिया जिसकी शिनाख्त कारवां पुलिस को सूचित किया।
आशीष गुप्ता प्रतिदिन नदी के किनारे दूर-दूर तक ढूंढता था अनंतोगत्वा 17 नवंबर दोपहर 1:30 बजे के लगभग रामपुर चीट गांव के सामने एक लाश उतर आई हुई मिली आशीष ने उसकी शिनाख्त अपनी मां शोभा देवी के रूप में करके पुलिस को सूचित किया। मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को बरामद कर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल बलिया भेज दिया।