रिपोर्ट बृजेश सिंह, आलापुर,अंबेडकरनगर।

उपजिलाधिकारी आलापुर और लेखपाल संगठन के बीच हुए विवाद का मामला गहराता जा रहा है। लेखपाल संघ के मुताबिक लेखपाल पर जो भी कार्रवाई हुई है उसे जब तक वापस नहीं लिया जाता तब तक आलापुर तहसील के सभी लेखपाल कार्य का बहिष्कार करेंगे तथा धरना प्रदर्शन जारी रखेंगे ।
लेखपाल संघ अध्यक्ष राम सिधार, उपाध्यक्ष राम सजीवन बर्मा, पूर्व अध्यक्ष जयदेव पांडे की अगुवाई में चल रहे धरना प्रदर्शन में लेखपाल संघ के पदाधिकारी एवं लेखपाल अपने उत्पीड़न की दास्तां बयां कर रहे हैं। लेखपालों का कहना है कि पुलिस प्रशासन ने उनके विरुद्ध तो मुकदमा पंजीकृत कर लिया लेकिन लेखपालों की ओर से दी गई तहरीर पर अभी तक मुकदमा पंजीकृत नहीं किया गया। लेखपालों की मांग है कि जहांगीरगंज थाने में अध्यक्ष राम सिधार, उपाध्यक्ष राम सजीवन वर्मा एवं पूर्व अध्यक्ष जयदेव पांडे की ओर से उपजिलाधिकारी आलापुर के विरुद्ध मुकदमा पंजीकृत करने के लिए दी गई तीनों तहरीर पर अलग-अलग मुकदमा पंजीकृत कर के एसडीएम के विरुद्ध कार्यवाही की जाए। यदि कार्यवाही नहीं की जाती है तो आंदोलन को व्यापक रूप देते हुए सभी तहसील मुख्यालयों पर लेखपाल संघ आंदोलन करेगा। इस बाबत बात करने पर लेखपाल अनुज प्रताप वर्मा ने बताया कि हम लोग सम्मान खो कर काम नहीं कर सकते, हम लोग अपने कार्य को करने के लिए दिन रात एक कर देते हैं, लेकिन सम्मान के साथ समझौता संभव नहीं है। अनुज प्रताप वर्मा ने मांग की है कि उप जिलाधिकारी महोदय का स्थानांतरण जब तक नहीं हो जाता तथा लेखपाल पर की गई कार्रवाई और प्रथम सूचना रिपोर्ट वापस नहीं ली जाती, तब तक लेखपाल संघ अपना आंदोलन जारी रखेगा और कार्य बहिष्कार करेगा गौरतलब है कि इस मामले में जिलाधिकारी अंबेडकरनगर ने एक जांच टीम गठित की है जिसके बारे में अपर जिला अधिकारी अशोक कुमार कनौजिया ने बताया की जांच रिपोर्ट के आधार पर जो भी दोषी होगा उस पर कार्रवाई की जाएगी।