रिपोर्ट, पंकज पांडे
(फरिहा) आजमगढ़ । फरिहा रेलवे क्रॉसिंग पर आए दिन गेट गिरने के बावजूद भी गेट के नीचे से मोटरसाइकिल सवार अपनी जान जोखिम मे डाल कर रेलवे क्रॉसिंग पार करते है । रेलवे प्रशासन और स्थानीय प्रशासन की कमी के कारण किसी दिन फरिहा रेलवे क्रॉसिंग पर बड़ी दुर्घटना घट सकती है, कभी कभी देखा गया है कि ट्रेन एकदम समीप आ जाती है, उसके बाद भी मोटरसाइकिल सवार व साइकिल चलाने वाले मानने को तैयार नहीं रहते हैं । बाइक सवारों को अगर गेटमैन द्वारा मना किया जाता है, तो गेटमैन को खरी-खोटी सुनाकर लोग बाइक गेट के नीचे से निकालकर चले जाते हैं । मऊ से शाहगंज तक लगभग 12 से 13 जोड़ी ट्रेनों का आवागमन प्रतिदिन होता रहता है, जब भी ट्रेन आने का समय होता है उस से 2 मिनट पहले गेट बंद हो जाता है ।लेकिन गेट बंद होने के बावजूद भी हर रोज बाइक सवार अपनी मनमानी करते रहते हैं । स्थानीय लोगों ने बताया कि अगर रेलवे प्रशासन और स्थानीय पुलिस सख्त नहीं हुआ तो एक दिन बड़ी दुर्घटना घट सकती है l