सुधीर अस्थाना

(मेहनगर) आजमगढ़। मेहनगर के करौती ग्राम स्थित धान क्रय केन्द्र पर नमी मापक यन्त्र लगभग तीन सप्ताह से खराब होने के कारण किसानों को ठगी का शिकार होना पड़ रहा है। दूसरी ओर चार दिन से खरीदारी भी बन्द हो गई है। बताया जा रहा है कि नमी मापक यंत्र के खराब होने से किसानों के प्रति कुण्टल धान में से 5 किलो से लेकर 7 किलो तक की कटौती की जा रही है। यह कटौती विपणन अधिकारी गायत्री  सिंह द्वारा छठीं इन्द्रिय के अनुमान के आधार पर किया जा रहा है। क्रय केन्द्र पर उपस्थित किसान  वीरभानपुर के प्रेम कुमार और गौरा के कमलेश सिंह, सतीश सिंह, अशोक सिंह, राम नयन सिंह, सदानन्द सिंह, त्रिभुवन सिंह, अशोक कुमार सिंह, राम प्यारे यादव बरवां, रवि सिंह गंजोर व दामां के रोहित     सिंह, रवि सिंह आदि ने बताया कि क्रय केन्द्र पर गोदाम भर जाने के कारण  चार  दिनों से  खरीदारी नहीं हो रही है, जिससे क्षेत्र के सारे किसान परेशान हैं और  कटौती भी मनमानी तरीके से की जा रही है, जबकि डस्टर मशीन लगने के बाद धान की कटौती नहीं की जानी चाहिए। हमारे 100 कुण्टल धान पर 5 कुण्टल  कटौती कर दी गयी है। इस प्रकार प्रत्येक किसान दस हजार रुपये का घाटा अनुमान के आधार पर उठा रहा है। दूसरी ओर डस्टर मशीन लगने के बाद पल्लेदारी 20 ₹ से कर 30 ₹ हो गई है। यह  अतिरिक्त भार भी किसानों पर पड़ रहा है। किसानों ने बताया कि क्रय केन्द्र पर किसानों के बैठने के लिए न तो कुर्सी है न पानी पीने की व्यवस्था है। 17 नवम्बर से खरीदारी चल रही है और अब तक मात्र 32 किसानों के धान की खरीदारी की गयी है। विपणन अधिकारी ने बताया कि अब तक 1800 कुण्टल धान की खरीद की गयी है। क्रय केन्द्र पर कुल लगभग 500 किसानों ने धान बेचने के लिए रजिस्ट्रेशन कराया है। यदि विपणन अधिकारी गायत्री सिंह इसी प्रकार धान का क्रय करती रही तो रबी की कटाई तक खरीफ के फसल की खरीदारी चलती रहेगी।