विनय शंकर राय
(लालगंज) आजमगढ़ । स्वामी अड़गड़ानंद जी महाराज के शिष्य गीता के मर्मज्ञ तुलसी महाराज जी का राणा प्रताप सिंह व रमेश सिंह के आवास कोटाखुर्द लहुवां में हुआ भव्य स्वागत हुआ । ज्ञानती सिंह, रेखा सिंह, उर्मिला सिंह, रीता सिंह, चित्रा सिंह, तारा सिंह, गुंजा सिंह आदि महिलाओं ने आरती उतार कर तथा गुरु पूजन किया । स्वामी तुलसी महाराज जी ने अपने प्रवचन में कहा कि हमें ईश्वर से आशा रखनी चाहिए, वन में पशु, पक्षी भगवान भरोसे रहते हैं, और  स्वस्थ तथा सुखी रहते हैं। कहा कि ढूंढ ही लूंगा एक दिन चाहे जीवन पड़े गलाना । हे ईश्वर एक न एक दिन आप का पता लगा ही लूंगा। इस प्रकार का विश्वास लेकर भक्ति के मार्ग में आगे बढ़ना चाहिए। ईश्वर सर्वव्यापी हैं। योगी जिसमें रमता है वह राम हैं। हरि व्यापक सर्वत्र समाना, प्रेम ते प्रकट होहिं मैं जाना। गुरु के आशीर्वाद और सत्संग करने से ही ईश्वर का साक्षात्कार हो सकता है। इस अवसर पर राणा प्रताप सिंह, रमेश चंद्र सिंह, धर्मदेव सिंह, बीरेंद्र सिंह, पूर्व प्रधानाचार्य ओमप्रकाश सिंह, राहुल सिंह, भोला सिंह, संजय सिंह, डीके सिंह, गुड्डू सिंह, दशरथ जायसवाल, राजेश शुक्ला, साधु राम मिलन सिंह, श्याम सुंदर, नरेंद्र, महेश प्रजापति एवं उनके सह गीतापाठी आदि लोग विशेष रूप से उपस्थित रहे।