बलिया। उत्तर प्रदेश शासन के निर्देश पर प्रदेश के सभी महाविद्यालयों एवं विश्वविद्यालयों में छात्र संघ चुनाव स्थगित किए जाने की घोषणा के बाद आक्रोशित छात्रों ने जमकर बवाल काटा। शासन के ही पूर्व घोषणा के अनुसार आज 20 दिसंबर को नामांकन और 24 दिसंबर को मतदान कराए जाने की घोषणा के बावजूद अचानक छात्र संघ चुनाव स्थगित किए जाने की घोषणा से छात्रों में आक्रोश उत्पन्न हो गया। पूर्वांचल छात्र संघर्ष समिति के संयोजक नागेंद्र बहादुर सिंह झुनू ने प्रशासन पर वादाखिलाफी का आरोप लगाते हुए कहा कि स्थानीय एक मंत्री के दबाव में छात्र संघ का चुनाव स्थगित किया जाना एक बिगड़ी हुई मानसिकता का परिचायक है। छात्र संघ का चुनाव लड़ने के लिए लाखों रुपए व्यय कर प्रत्याशी नामांकन के लिए अपने अपने वहां विद्यालयों में आज पहुंचे जहां प्रशासन के लोगों ने छात्र संघ चुनाव को स्थगित कराए जाने का फरमान सुना दिया। इस दौरान छात्रों ने टीडी कॉलेज से लेकर जिला अधिकारी कार्यालय तक आक्रोश में नजर आए। जगह-जगह छात्रों ने नारेबाजी की और प्रशासन विरोधी नारे लगाए। इसके पूर्व टीडी कॉलेज परिसर में सिटी मजिस्ट्रेट प्रदीप कुमार और अपर पुलिस अधीक्षक विजय त्रिपाठी क्षेत्राधिकारी सहित शहर कोतवाल भारी संख्या पुलिस बल के साथ टीडी कालेज सहित जनपद के सभी महाविद्यालयों पर जिला प्रशासन ने सतर्कता बरतने के निर्देश दिये। छात्र संघ चुनाव को लेकर छात्र नेताओं का आक्रोश दिन भर चलता रहा। किसी भी जिलाधिकारी कार्यालय के पोर्च के समीप ताला बंद कर छात्र नेताओं ने विरोध प्रदर्शन किया।