बलिया। निर्वाचन व्यय अनुवीक्षण, विधान सभा सामान्य निर्वाचन 2022 में उम्मीदवारों द्वारा किए जाने वाले व्यय के अनुवीक्षण कार्य हेतु व्यय अनुवीक्षण में नियुक्त सभी कार्मिकों/टीमों का प्रशिक्षण वरिष्ठ कोषाधिकारी ममता सिंह की अध्यक्षता में मंगलवार को कलेक्ट्रेट सभागार सम्पन्न हुआ। उन्होंने कार्मिकों को व्यय प्रेक्षक, सहायक व्यय प्रेक्षक, वीडियो निगरानी टीम, वीडियो अवलोकन टीम, लेखाकरण टीम, शिकायत अनुवीक्षण नियंत्रण कक्ष और काल सेंटर, मीडिया प्रमाणन और अनुवीक्षण समिति, उड़न दस्ते, स्थैतिक निगरानी टीम, व्यय अनुवीक्षण प्रकोष्ठ/सेल एवं नोडल अधिकारी व्यय अनुवीक्षण के संबंध में कार्मिकों को प्रशिक्षण दिया गया।

उन्होंने कहा कि लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम 1951 की धारा 77 (1) के अनुसार लोकसभा या राज्य विधानसभा के प्रत्येक अभ्यर्थी के लिए उसके नामांकन की तारीख से निर्वाचन के परिणाम की घोषणा की तारीख के मध्य उसके द्वारा या उसके निर्वाचन एजेंट द्वारा उपगत या प्राधिकृत किए गए सभी व्ययों का पृथक एवं सही लिखा रखना अनिवार्य है। विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र/खंड के प्रत्येक अभ्यर्थी के छाया प्रेक्षण रजिस्टर और साक्ष्य फोल्डर के रख-रखाव में लेखा टीमों को सहायक व्यय प्रेक्षक के मार्गदर्शन में कार्य करना होगा। उन्हें जैसा रिपोर्ट किया गया है वैसे ही वे व्यय की मदों की प्रविष्टि करेंगे और प्रत्येक मद के सम्मुख अधिसूचित दर लिखेंगे, फिर प्रत्येक अभ्यर्थी के लिए मदों पर कुल व्यय की गणना करेंगे। प्रत्येक विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र/खंड के लिए एक वीडियो अवलोकन टीम होगी, जिसमें एक अधिकारी तथा दो लिपिक होंगे। वीडियो निगरानी दलों द्वारा की गई वीडियो रिकॉर्डिंग में से वीडियो अवलोकन दल इन- हाउस सीडी तैयार करेंगे तथा किसी भी बाहरी एजेंसी को संपादन अथवा अन्य प्रयोजनार्थ यह सीडी नहीं सौपेंगे। व्यय से संबंधित मामलों और आदर्श आचार संहिता से संबंधित मामलों की पहचान के लिए वीडियो अवलोकन टीम एवं वीडियो निगरानी टीम द्वारा ली गई वीडियो सीडी रोज देखी जाएगी। साथ ही वीडियो अवलोकन दल निर्वाचन की घोषणा की तारीख से कार्य करेगा तथा मतदान/पूर्ण मतदान की तारीख तक अपनी ड्यूटी जारी रखेगा।