बलिया।समाजवादी पार्टी के जिला कार्यालय पर विश्वकर्मा जनचौपाल का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि अखिल भारतीय विश्वकर्मा शिल्पकार महा सभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष पूर्व मंत्री राम आश्रय विश्वकर्मा ने जन चौपाल कार्यक्रम में उपस्थित जनसमुदाय को संबोधित करते हुए कहा कि विश्वकर्मा समाज के बेहत्तरी के लिए जितना काम समाजवादी पार्टी ने किया है उतना आज तक किसी भी पार्टी ने नही किया।समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने इस समाज को पहचान दिया है तो अध्यक्ष अखिलेश यादव ने अपने मुख्यमंत्री काल मे ताकत देने का काम किया है आज वर्तमान सत्ता में हमारे समाज को कोई महत्व नही दिया गया जिसका उदाहरण है कि इस सरकार में हमारा प्रतिनिधित्व जीरो है।
उत्तर प्रदेश विधानसभा में विपक्ष के नेता रामगोविन्द चौधरी ने अपने संबोधन में कहा कि आप शिल्पी है।आप से समाज को उम्मीद भी है और आप पर विश्वास भी है इस लिए आप की जिम्मेदारी भी अधिक है उस जिम्मेदारी का निर्वाह भी कठिन है लेकिन आप के नेतृत्वकर्ता राम आश्रय विश्वकर्मा जी पर मुझे भरोसा है कि इनके नेतृव में आप समाजवादी रास्ता जो कि आप के बेहत्तरी,खुशहाली का है उस पर आगे तक चलेंगे।जिसका लाभ 2022 में मिलेगा।
पूर्व मंत्री अम्बिका चौधरी ने इस मौके पर विस्तार से सामाजिक समरसता और सामाजिक परिवर्तन पर चर्चा करते हुए कहा कि आज जो कुछ भी हमे मिला है सामूहिक प्रयास से मिला है लेकिन यह काफी नही है। हमे आज अभी और तन्मयता और एकता की जरूरत है क्योकि सत्ता में बैठे लोग आज लोकतंत्र और संविधान से ऊपर चलने का प्रयास कर रहे है। देश को मिली आज़ादी और इस संविधान की रक्षा हेतु हमे मुखर होना ही होगा।
विश्वकर्मा सभा के जिला अध्यक्ष राजेश विश्वकर्मा ने आगंतुकों के प्रति आभार व्यक्त किया। चौपाल कार्यक्रम की अध्यक्षता सपा जिला अध्यक्ष राजमंगल यादव एव संचालन जिला प्रवक्ता सुशील पाण्डेय”कान्हजी” ने किया।
इस अवसर पर सत्येंद्र विश्वकर्मा,सियाराम विश्वकर्मा,नन्द किशोर विश्वकर्मा,लल्लन विश्वकर्मा, रुपेश विश्वकर्मा,प्रभात विश्वकर्मा,रविशंकर विश्वकर्मा,रामसोच विश्वकर्मा,मृत्युंजय,विनोद विश्वकर्मा,मधुसूदन शर्मा,यमुना शर्मा,कृष्णा शर्मा,राहुल शर्मा,केशव शर्मा, आदि ने संबोध किया। और गरिमामय उपस्थिति सुभाष यादव,जय प्रकाश अंचल,लक्षमण गुप्ता,संजय उपाध्याय,यशपाल सिंह,बंशीधर यादव,अजित मिश्र,प्रभुनाथ यादव,जयप्रकाश यादव मुन्ना,शशिकान्त चतुर्वेदी,ज्ञानेंद्र राय गुड्डू,विकेश सिंह सोनूरामेश्वर पासवान,साथी रामजी ज्ञानेन्द्र यादव,अजय यादव,शामू ठाकुर,मुनजी,मनोज गुप्त बब्बलु खा आदि की रही।
सुशील पाण्डेय”कान्हजी”