बलिया गुरुगोविंद महाराज देव जी के प्रकाश उत्सव को लेकर आज अंतिम दिन प्रभात फेरी नगर स्थित गुरुद्वारे से आरंभ हुआ। विशेष साज सज्जा के साथ गुरु साहिब के पंज प्यारो और पांच निशान साहिब के साथ सिख समाज द्वारा निकाली गई। इस दौरान कई तरह से सिख समाज के लोगो ने भजन-कीर्तन गाये।आप को बताते चले कि धार्मिक रूप से प्रभात फेरी को प्रार्थना से जोड़ा जाता है। जिसके अनुसार प्रभात फेरी के दौरान आस- पास के क्षेत्रों में भ्रमण करते हुए परमात्मा के उपदेशों को पढा जाता है।यूं तो प्रभात फेरी का इतिहास काफी पुराना है लेकिन खासतौर से सिख धर्म मे प्रभात फेरी को अधिक अहमियत मिली है। इसी कड़ी में नगर के गुरुद्वारे से 27 दिसम्बर से लगातर आज 6 जनवरी तक निकाला गया जिसे पंज प्यारो के साथ अंतिम रूप दिया गया, वही 7 जनवरी को भव्य रूप से प्रकाश उत्सव की तैयारी की की जा रही है जिसे लेकर सिख समाज मे खासा उत्साह है।