आजमगढ़ फूलपुर से मोहम्मद अकलेन की रिपोर्ट

ग्रामीण इलाकों में ठंड के चलते आम जनजीवन काफी प्रभावित हो गया है।रोज़मर्रा का कार्य समय से नही हो पा रहा है। अलाव का भी बेहतर स्थानों पर इंतज़ाम न होने से रिक्शावान,पटरी दुकानदार और यात्रियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।जिन स्थानों पर शाम को चहल पहल देखने को मिलती थी वहां सन्नाटा पसरा रहता है।कड़ाके की ठंडक के कारण राहगीरो और दो पहिया वाहन चालकों की दिक्कते बढ़ गई है।बाइक चलाते समय हाथ भी सुन्न हो जा रहा है।रोडवेज,शंकर तिराहा,डाकघर,रेलवे स्टेशन और सार्वजनकि स्थानो पर गरीब और बेसहारा लोग गलन से ठिठुरते देखे गए।हालांकि प्रशासन द्वारा सार्वजिनक स्थानो पर अलाव जलाने का दावा किया जा रहा है।उधर शीतलहर और ठंडक के चलते ब्यापार में भी मंदी का असर आ गया है।दोपहर बाद थोड़ी धूप निकलती है लेकिन शरीर पर उसका बिल्कुल असर नही पड़ता है।सर्राफ़ा ब्यवसाई बाबी सेठ का कहना है कि ग्राहक ठंडक के कारण घरो में दुबके हुए है। जो लोग किराए पर दुकान चला रहे उनका किराया भी आजकल भारी पड़ रहा है।हर दुकानदार के आमदनी में काफी कमी आयी है।