पब्लिक स्कूलों में कराटे खिलाड़ियों एवं अभिभावकों को गुमराह करने तथा नान काउंटेबल एवं फर्जी राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय खेलों में खिलाने के नाम पर लगातार धन उगाही के आरोप में कराटे एसोसिएशन ऑफ उत्तर प्रदेश द्वारा कराटे एसोसिएशन ऑफ बलिया के एल.बी.रावत, कमल यादव एवं उनके सहयोगियो को प्रतिबंधित किया जा चुका है,इसके बावजूद भी पुनः इनके द्वारा स्कूलों एवं खिलाड़ियों को गुमराह करने एवं खिलाड़ियो से गेम के नाम पर फरेब करने एवं धन उगाही की शिकायतें लगतार मिल रही है। जिसको ध्यान में रखते हुए स्पोर्ट्स कराटे एसोसिएशन ऑफ बलिया के सचिव सुमित झां ने उपरोक्त फर्जीवाड़े को रोकने के लिए बताया कि प्रतिबंधित एल. बी.रावत एवं कमल यादव द्वारा जारी कोई भी खेल प्रमाण पत्र अमान्य है।उन्होंने कराटे खेल को संचालित कर रहे सम्बद्ध सभी स्कूलों के सम्मानित प्रबन्धक गणों के साथ ही अभिभावकों को सचेत करते हुए बताया कि कराटे प्रशिक्षुओं एवं खिलाड़ियों के बेहतर भविष्य के लिए उन्हें फर्जी संस्थाओं द्वारा जारी खेल प्रमाण पत्रों की वैधता की जांच स्वयं एवं खेल विभाग से अवश्य करवाना चाहिए,ताकि पुनः इस प्रकार के फर्जीवाड़े की पुनरावृत्ति से बचा जा सके।