बलिया। उत्तर प्रदेश के नेता प्रतिपक्ष रामगोविंद चौधरी ने कहा कि समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव युवा, छात्र,गरीब, मजदूर, किसान, अतिपिछड़ा, पिछड़ा, दलित, अल्पसंख्यक और लोकतन्त्र – धर्मनिरपेक्षता में विश्वास रखने वाले सभी जाति, धर्म और वर्ग के लोगों के स्वाभिमान के पर्याय हैं। हिटलरी गुमान के समर्थक भाजपाई उनके ऊपर ओछी टिप्पणी करने से बाज आएं नहीं तो उत्तर प्रदेश में भाजपा के खाते से विधायक शब्द लुप्त हो जाएगा। उन्होंने कहा है कि भारतीय जनता पार्टी नेतृत्व को अपने आंतरिक सर्वे में यह सत्य पता चल गया है कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में अखिलेश यादव जनता की पसन्द है और वह सत्ता में आ रहे हैं। दस मार्च को इसकी विधिवत घोषणा हो जानी है। इसी वजह से लाठी मार पार्टी भाजपा हताश है। इसी हताशा में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अयोध्या की जगह भग कर गोरखपुर की शरण में गए हैं।
गुरुवार को अपने आवास पर मिलने आए शुभचिंतकों से बातचीत में नेता प्रतिपक्ष रामगोविंद चौधरी ने कहा है कि पूरा प्रदेश मंहगाई, भ्रष्टाचार,बेरोजगारी और सरकारी उत्पीड़न से त्राहि त्राहि कर रहा है। लोग खुद इस सरकार से पिण्ड छुड़ाने के लिए बेताब हैं। विधानसभा के समक्ष दौड़ा कर पीटे गए शिक्षक, कर्मचारी, देश मे पहली बार महिला शिक्षामित्रों ने मुण्डन कराया, नवजवान, बेरोजगार, महिलाएं जवाब देने के लिए अपने अपने गांव में भाजपाइयों का इंतजार कर रही हैं। किसान अपने साथी सैकड़ो शहीद किसानों की मौत का हिसाब अपने वोट से चुकता करने को बेताब है। और सरकारी तंत्र, विज्ञापन के बल पर यह साबित करने में लगा है कि चारो तरफ खुशी व्याप्त है। उन्होंने कहा है कि दस मार्च को आने में अब सिर्फ 49 दिन शेष रह गए हैं। पचासवें दिन यह घोषणा हो जाएगी कि सभी जात धर्म के लोगों के स्वाभिमान के प्रतीक अखिलेश यादव के नेतृत्व में समाजवादी पार्टी को प्रचंड बहुमत प्राप्त हो गया।
कुछ अधिकारी और कर्मचारी भाजपा के वर्कर की तरह काम कर रहे हैं। ऐसे अधिकारियों, कर्मचारियों पर नज़र रखिए और इनकी हर गलत हरकत की शिकायत चुनाव आयोग एव पार्टी नेतृत्व को तत्काल भेजिए।
इस मौके पर सपा प्रवक्ता सुशील कुमार पांडे मौजूद रहे ।