लालगंज (आज़मगढ़ ) विनय शंकर राय की रिपोर्ट

स्थानीय तहसील क्षेत्र के चेवार पश्चिम गांव निवासी बंगेश्वर प्रताप सिंह के यूक्रेन से वापस आने पर शुक्रवार को तहसीलदार उमाशंकर त्रिपाठी ने उनके घर पहुँच कर हाल -चाल लिया ।बंगेश्वर सिंह पुत्र अरविंद सिंह यूक्रेन में रहकर यूक्रेन इवानो फ्रैंक्विक्स कॉलेज में एमबीबीएस की विगत एक वर्ष से पढ़ाई कर रहे थे कि इसी बीच यूक्रेन और रूस के बीच युद्ध आरम्भ हो गया और वह कालेज प्रशासन के सहयोग से बस द्वारा रोमानिया पहुंचाए गए। और बुधवार को दिन के 2 बजे वह बुचारिस्ट नामक स्थान से 2 बजे रात को दिल्ली पहुंचे। उसके बाद भारत सरकार व उत्तर प्रदेश सरकार के सहयोग से गुरुवार शाम को लगभग 4 बजे अपने घर पहुंच सके।
बंगेश्वर प्रताप सिंह ने कहा कि सरकार द्वारा पूर्व में दी गई एडवाइजरी से 23 फरवरी का टिकट एयर इंडिया का बुक कराया गया था लेकिन निकटवर्ती एयरवेज को रूस की सेना द्वारा बमबारी से ध्वस्त कर दिए जाने के बाद भारत सरकार की एडवाइजरी व कालेज प्रशासन के सहयोग से बस द्वारा वह रोमानिया पहुंचे। वहां बुचारिस्ट में एयरवेज के बगल में शेल्टर रूम में कई बच्चों के साथ उनको रखा गया। इसके बाद भारत सरकार द्वारा भेजे गए उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया वहां पहुंचे और हम लोगों से मिले तब हम लोगों की जान में जान आई कि हम लोग अब घर पहुंच जाएंगे। फ्लाइट द्वारा हम लोगों को इंडिया लाएं जाने के बाद काफी सुकून महसूस हो रहा है। उनके गांव आने के समाचार के मिलने के बाद जहां गांव के लोगों और रिश्तेदारों का उनके घर पूरी तरह आना जाना लगा हुआ है वही शुक्रवार को तहसीलदार उमाशंकर त्रिपाठी लालगंज ने उनसे मुलाकात की और उनका हालचाल जाना।