दैनिक पुर्वांचल

बलिया पिछले 9 मार्च को चिलकहर बीआरसी पर महिला शिक्षक संघ की जिलाध्यक्ष और प्रधानाध्यापिका रंजना पांडेय द्वारा सहायक अध्यापक मानवेन्द्र सिंह की सरेआम पिटाई प्रकरण में जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी बलिया द्वारा पीड़ित शिक्षक और आरोपी प्रधानाध्यापिका को रविवार को निलंबित कर दिया गया और दोनों को दो जगह अटैच भी कर दिया गया । इस आदेश के निकलते ही हड़कम्प मच गया है । क्योंकि बीएसए द्वारा सहायक अध्यापक मानवेन्द्र सिंह की जिस प्राथमिक विद्यालय पर सम्बद्ध किया गया है, वह आरोपी प्रधानाध्यापिका रंजना पांडेय का घर वाले गांव का है ।

इस संबद्धता के खिलाफ शिक्षक संघ के पदाधिकारियों द्वारा सोशल मीडिया के माध्यम से आवाज उठाते हुए कहा गया है कि रंजना पांडेय के गांव वाले विद्यालय में शिक्षक की संबद्धता शिक्षक के जानमाल को खतरे में डालना है । पीड़ित शिक्षक ने भी वीडियो संदेश में अपने जान माल को खतरा बताया है । कहा है कि निर्दोष होते हुए भी मुझे निलम्बित किया गया,मुझे इस पर आपत्ति नही है लेकिन मुझे उस गांव में पोस्टिंग दी गयी है जहां की रहने वाली रंजना पांडेय है, जिन्होंने घटना वाले दिन मुझे कटवाने जान से मारने तक की सरेआम धमकी दी थी । ऐसे में मैं पूंछना चाहता हूं कि मेरी पोस्टिंग पांडेयपुर होने से अगर मेरे साथ कुछ होता है तो इसका जिम्मेदार कौन होगा ?