दैनिक पुर्वांचल

बलिया। होली के दिन दिल खिल जाते है, रंगों में रंग मिल जाते है, सारे गिलवे शिकवे भूल दुश्मन भी गले मिल जाते है …. । यह पुलिस लाइन में देखने को मिला , जहां क्या कप्तान , क्या जवान सभी होली की उमंग में रंगों में सराबोर और डीजे की धुन पर जमकर थिरकते दिखे । सभी ने एक दूसरे को रंग गुलाल लगाया,बिना किसी बड़े छोटे का भेदभाव किये
खाकी वर्दी पहनने वाला भी इंसान होता है,इसके दिल मे भी वही जज्बात होते है ,जो आम लोगो के दिल की तरह ही होते है। इनके दिल में भी इंसानियत और सामाजिकता रहती है। इनका भी मन करता है कि अपने परिवार के साथ त्योहारों को मनाये ,पर हम सब मस्ती से और सुरक्षित त्योहार मना सके ,हम सबकी सुरक्षा की जिम्मेदारी कंधों पर उठाकर ये ड्यूटी करते है । जब हम त्योहार मना लेते है,तब इनको त्योहार मनाने का मौका मिलता है । इनको जब भी मौका मिलता है,ये उसका भरपूर मजा लेते है, जैसा रविवार को पुलिस लाइन में पुलिस वालों की होली देखने के बाद एहसास हुआ।
पुलिस वालों की होली… न कोई सीनियर न कोई जूनियर। पुलिस लाइन के मैदान में गजब का उत्साह दिखा। चुनाव ड्यूटी से बोझिल हो चुके पुलिसकर्मियों के लिए ये होली बूस्टर डोज की तरह रही। अपराधियों को धूल चटाने वाले पुलिस कर्मी होली की मस्ती में थे। चेहरों पर गुलाल की लाली और डीजे की धुनों पर थिरकते पुलिसकर्मियों के लिए यह होली यादगार बन गई।एक-दूसरे के गले लगकर होली की बधाई देते पुलिसकर्मियों का उमंग शबाब पर था।
जनपद में सकुशल होली सम्पन्न कराने के बाद बलिया पुलिस ने रविवार को जमकर होली खेली। पुलिस लाइन एवं जनपद के समस्त थानों में होली मिलन का कार्यक्रम किया गया। पुलिस अधीक्षक राज करन नय्यर की अध्यक्षता में पुलिस लाइन में आयोजित कार्यक्रम बहुत ही शानदार रहा।
इस होली मिलन कार्यक्रम में अपर पुलिस अधीक्षक विजय त्रिपाठी, समस्त क्षेत्राधिकारी गण, प्रतिसार निरीक्षक एवं अन्य अधिकारी कर्मचारी न सिर्फ शामिल हुए, बल्कि होली के हुड़दंग से ओत-प्रोत भी दिखें। होली की मस्ती में न कोई सीनियर न कोई जूनियर था। यहां सभी ने एक-दूसरे को रंग लगाकर होली की हार्दिक शुभकामनाएं दी।