आजमगढ़। उ0प्र0 शासन के आदेशानुसार मनाये जा रहे प्रदेश स्तरीय भूजल सप्ताह-2022 का समापन के क्रम में शुक्रवार अन्तिम दिन सेन्ट जेवियर्स स्कूल आजमगढ़ में प्रधानाचार्य नीलेश श्रीवास्तव की अध्यक्षता में भूजल संरक्षण/संचयन करने के सम्बन्ध में एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए भूगर्भ जल विभाग के वैज्ञानिक आनन्द प्रकाश द्वारा बताया गया कि भूजल हमारा अमूल्य प्राकृतिक संसाधन एवं सृष्टि के जीवन का मूल आधार है। पृथ्वी पर 29 प्रतिशत भू-भाग है तथा 71 प्रतिशत जल है। 71 प्रतिशत जल में से 97 प्रतिशत खारा पानी है एवं 3 प्रतिशत फ्रेस वाटर है, जिसका 30 प्रतिशत ग्राउण्ड वाटर है। परन्तु अविवेकपूर्ण उपयोग तथा रिचार्जिंग के अभाव में गुणवत्ता तथा भण्डारण में कमी आ रही है, जिसका मुख्य कारण जनसंख्या वृद्धि एवं अनियोजित विकास है। इसी के क्रम में भूजल अधिनियम 2019 प्रख्यापित किया गया है, जिसके अन्तर्गत छिद्रण, बोरिंग, औद्योगिक, आरओ प्लाण्ट की अनापत्ति हेतु भूगर्भ जल विभाग के विभागीय पोर्टल पर पंजीकरण कराना अनिवार्य है, इसका उल्लघंन दण्डनीय अपराध है। उन्होने बताया कि आजमगढ़ जनपद गंगा का मैदानी क्षेत्र है, परन्तु जल की मांग तथा अनियोजित उपयोग के कारण जल स्तर नीचे गिरता जा रहा है। प्रदेश में सन् 2000 में केवल 20 विकास खण्ड सेमी क्रिटिकल श्रेणी में थे, वहीं नवीनतम आंकलन में क्रिटिकल विकास खण्डों की संख्या प्रदेश में 105 हो गयी है, जो हमारे लिए चिन्ता का विषय है। यह कार्य जन जागरूकता से ही पूर्ण किया जा सकता है। जैसे सेविंग या ब्रश करते समय मग का प्रयोग करें, वाहन धोने में बाल्टी-मग का प्रयोग करें। बस सोच और तरीका बदलने की आवश्यकता है। कार्यक्रम में विद्यालय के बच्चों द्वारा भूजल संचयन/संरक्षण से संबंधित चित्रकला प्रदर्शनी, माडल, पोस्टर प्रदर्शनी की प्रस्तुतीकरण किया गया। अन्त में भूजल सप्ताह कार्यक्रम का समापन करते हुए प्रधानाचार्य नीलेश श्रीवास्तव द्वारा बताया गया कि जल का उपयोग वैज्ञानिक विधि एवं विवेकपूर्ण तरीके से करके हम आने वाली पीढ़ी को सुरक्षित जल भण्डारण प्रदान कर सकते हैं। कार्यक्रम में विद्यालय के उप प्रधानाचार्य करणी श्रीवास्तव, प्रीती यादव, अध्यापकगण, कोआर्डिनेटर धीरेन्द्र कुमार, भूगर्भ जल विभाग के अधिकारी/कर्मचारी, धमेन्द्र कुमार, रामअवध यादव तथा सिंचाई विभाग के सहायक अभियन्ता विवेक कुमार एवं अभिषेक सिंह सहित छात्र/छात्राएं आदि उपस्थित रहे।