अतरौलिया, आजमगढ़। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ अतरौलिया नगर का गुरु पूजन उत्सव एवं समर्पण कार्यक्रम महरूपर रोड स्थित आर एस कॉन्वेंट स्कूल अतरौलिया पर संपन्न हुआ। जिसकी अध्यक्षता राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ आर्यमगढ़ विभाग संघचालक व गांधी शताब्दी स्नातकोत्तर महाविद्यालय कोयलसा के पूर्व प्राचार्य डा भगत सिंह जी व संचालन अतरौलिया खंड के खंड कार्यवाह सुनील तिवारी जी रहे। कार्यक्रम के मुख्य वक्ता के रूप में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ कोयलसा खंड के खंड संघचालक व गांधी शताब्दी स्नातकोत्तर महाविद्यालय कोयलसा के हिंदी विभाग के पूर्व विभागाध्यक्ष डा हरिसेवक पांडेय रहे। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए डा हरीसेवक जी ने कहा कि संघ ने व्यक्ति के जगह प्रतीक को अपना गुरु स्वीकार किया। संघ अपने स्थापना काल से भगवा ध्वज को अपना गुरु मानता है। भगवा ध्वज भारतीय संस्कृति, सभ्यता, त्याग, तपस्या और मोक्ष का परिचायक है। अनादिकाल से अनाचार और अत्याचार के विरुद्ध इसी भगवा ध्वज के तले न जाने कितने बलिदानियों ने अपने प्राणों की आहुति दी है, आगे उन्होंने कहा की व्यक्ति के जीवन में गुरु का स्थान सदा से सर्वोपरि रहा है और आगे भी रहेगा, इसी भाव को आत्मसात करते हुए संघ का स्वयंसेवक वर्ष में एक भर भगवा ध्वज के सम्मुख अपना समर्पण समर्पित करता है। अध्यक्षता कर रहे डा भगत सिंह ने कहा की यह समर्पण केवल अर्थ का ही नहीं अपितु शक्ति का प्रकटीकरण भी है। आज विश्व भर में संघ का कार्य फैल चुका है। अपने कार्यों व मातृभूमि में अगाध निष्ठा के कारण देश का विश्वास संघ के प्रति और प्रबल हुआ है। वह दिन दूर नही जब संघ के संस्थापक पूज्य हेडगेवार जी का स्वप्न साकार होगा। इस दौरान मुख्य रूप से जिला प्रचारक विनय जी, विभाग गंगा समग्र प्रमुख राणा लाखन, नगर कार्यवाह प्रदीप जायसवाल, जिला उपाध्यक्ष विहिप वैभव चौरसिया, खंड संपर्क प्रमुख बसंत श्रीवास्तव, प्रखंड मंत्री विहिप ओंकार मिश्र, सियाराम अग्रहरि, महेश सोनी, सनोज, शिवकुमार, मनीष आदि लोग उपस्थित रहे।