– कांवरियों ने शिवलिंग पर चढ़ाया जल
अतरौलिया, आजमगढ़। सावन के पवित्र माह में पड़ने वाले सावन के दूसरे सोमवार का आज पवित्र दिन रहा, वही शिव भक्तों को सावन माह में पड़ने वाले सोमवार का बेसब्री से इंतजार होता है। सावन के दूसरे सोमवार पर बहुत ही अच्छा शुभ संयोग भी बना। आज सावन सोमवार के साथ प्रदोष व्रत भी है। सावन सोमवार के दिन प्रदोष व्रत होने से भगवान शिव की पूजा,उपासना और अभिषेक का महत्व ज्यादा महत्वपूर्ण होता है। सावन सोमवार के दिन शिवलिंग पर जलाभिषेक करने से भगवान शिव जल्दी प्रसन्न होते है। क्षेत्र के प्रशिद्ध कैलेश्वर धाम (कैली) समेत अन्य शिव मंदिरों पर सुबह 4 बजे से भक्तों की भारी भीड़ जल चढ़ाने के लिए उमड़ पड़ी, वही दूर दूर से आए कांवरियों ने सुबह से ही स्वयंभू शिवलिंग पर जलाभिषेक किया जहाँ हर-हर महादेव के उद्घोष से पूरा वातावरण गुंजायमान हो गया। आस्था के महापर्व सावन के दूसरे सोमवार को मंदिर परिसर व आसपास लोगों की भारी भीड़ लगी रही और लोगों को जलाभिषेक करने के लिए अपनी बारी का इंतजार करना पड़ा ,वही बगल ही फूल माला की दर्जनों दुकानें पूरी तरह से सजी रही जहां लोगों ने भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए फूल माला खरीदा ।सुरक्षा के दृष्टिकोण से महिला व पुलिस कर्मियों की तैनाती मंदिर परिसर व आसपास की गई थी तो वही मंदिर के बाहर दुकानें पूरी तरह से सजी रही जहां महिलाओं और बच्चों ने जमकर खरीदारी की। कैलेश्वर धाम (कैली) स्थान को मान्यताओं के अनुसार स्वयंभू से निकला शिवलिंग माना जाता है जहां दर्शन पूजन के साथ जलाभिषेक करने के लिए दूर-दूर से श्रद्धालु तथा कांवरिया जल लेकर पहुंचते हैं। द्वापर युग के इस मंदिर में राम जानकी हनुमान जी विराजमान है तो वही परिसर में ही शिव जी की मूर्ति लगी है जहां शिवलिंग पर लोग श्रावण मास में जलाभिषेक चढ़ाते हैं। इसी क्रम में क्षेत्र के अन्य शिव मंदिरों पर भी सुबह से भक्तों की भारी भीड़ लगी रही जहां लोगों ने जलाभिषेक किया। मान्यताओं के अनुसार श्रावण मास के दूसरे सोमवार को विशेष महत्व माना जाता है जिसे लेकर आज सुबह से ही प्रमुख मंदिरों पर भारी भीड़ लगी रही।