आजमगढ़। जनपद में डीसी मनरेगा एवं डीसी एनआरएलएम विभाग आजमगढ़ के मिथिलेश तिवारी स्थानान्तरण होने के एक माह बाद भी कार्यमुक्त नही हुए बल्कि कुंडली मारकर बैठा हुआ हैं जबकि उत्तर प्रदेश सरकार का सख्त आदेश एवं शासनादेश भी जारी हुआ था कि हस्तांतरण होने के बाद जो भी अधिकारी व कर्मचारी कार्य मुक्त होकर नवीन जगह कार्यभार नहीं ग्रहण करता है उसके खिलाफ शख़्त कार्यवाही की जाएगी लेकिन यह अधिकारी , उत्तर प्रदेश सरकार के आदेशों की धज्जियां उड़ा रहा हैं । बताते चलें कि उत्तर प्रदेश शासन द्वारा ग्राम विकास विभाग के 71 पीडीएस अधिकारियों का 30 जून को तबादला हो गया जिसमें तीन पीडीएस अधिकारी आजमगढ़ के शामिल थे जिसमें आजमगढ़ के जिला विकास अधिकारी रविशंकर राय व परियोजना निदेशक डीआरडीए के के सिंह आजमगढ़ से कार्य मुक्त हो चुके हैं वहीं पर डीसी एनआरएलएम मिथिलेश कुमार तिवारी का स्थानांतरण आजमगढ़ से इसी पद पर महोबा जिले में हो गया है लेकिन अभी तक कार्यमुक्त नहीं हुए हैं । स्थानांतरण होने के एक माह बीतने के बाद भी अधिकारी कार्यमुक्त न होंना जो शासन के आदेशों की धज्जियां उड़ाने पर ऐसे अधिकारियों के पर सवालिया निशान खड़ा होता है । वही स्थानांतरण पत्र में साफ-साफ लिखा हुआ है कि अगर स्थानांतरित अधिकारी को अविलंब कार्य मुक्त नहीं किया गया तो आदेशों की अवहेलना अनुशासनहीनता मानी जाएगी व संबंधित के खिलाफ यथोचित कार्यवाही की जाएगी लेकिन इस तरह के पत्र जारी होने के बाद भी उच्च अधिकारी इसको संज्ञान में नहीं ले रहे हैं ।