रिपोर्ट, वरुण सिंह 

आजमगढ़ । कलेक्ट्रेट स्थित पानी की टंकी पर शुक्रवार को बाबूलाल यादव नाम का एक शख्स पानी की टंकी पर इसलिए चढ़ गया कि उसे न्याय नहीं मिल रहा है, जबकि लेखपाल से लेकर तहसील प्रशासन कई बार इस बाबू लाल यादव की जमीन की पैमाइश कर चुका है, और खूंटा भी गड़ चुका है, इसके बावजूद इस बाबू लाल यादव को तहसील प्रशासन पर विश्वास नहीं है, और हमेशा जिलाधिकारी से लेकर अन्य अधिकारियों के यहां न्याय के लिए चक्कर लगाता रहता है, ऐसा ही चक्कर 4 वर्ष पूर्व यह बाबू लाल यादव चक्कर लगा रहा था, इसी बीच विरोधी महिला ने इस ढोंगी साधु को कलेक्ट्रेट में इसको कई चप्पल ताबड़तोड़ मार चुकी भी है, लेकिन यह ढोंगी बाबू लाल यादव जो अपने को साधु बताता अपने उल्टा सीधा क्रियाकलाप से नहीं मानता है, और हमेशा जमीन की पैमाइश के लिए अधिकारियों के यहां चक्कर लगाता रहता है, शुक्रवार को यह ढोंगी साधु जमीन की पैमाइश कराने के लिए कलेक्ट्रेट में जिलाधिकारी के यहां पहुंचने से पहले पास में पानी की टंकी पर चढ़ गया, और आत्मदाह करने का नाटक करने लगा, इस बात की जानकारी जब सिविल लाइन पुलिस चौकी इंचार्ज व अन्य अधिकारियों को हुई तो वह मौके पर पहुंचे, और न्याय का आश्वासन देकर इस ढोंगी साधु बाबूलाल यादव को नीचे उतरवाया और जिलाधिकारी के यहां ले जाकर पेश किया । बता दें कि सगड़ी तहसील क्षेत्र के अजगरा गांव निवासी बाबू लाल यादव का अपने पट्टीदार से जमीन का विवाद चलता है । बाबूलाल के पट्टीदार लवकुश यादव ने बताया कि बाबूलाल यादव साधु नहीं बल्कि यह ढोंगी है । प्रशासन कई बार आकर के जमीन का पैमाइश करा चुका है इसके बाद भी हम लोगों को परेशान करते रहता है ।