लालगंज, आजमगढ़। मांग पूरी न होने व तहसील कर्मियों के प्रतिशोध के विरोध में शुक्रवार को अधिवक्ताओ ने अपने को न्यायिक कार्यो से विरत रखा। 13 अप्रैल 22 को लेखपालों ने तहसील परिसर में एक अधिवक्ता को पीट दिया था जिससे आक्रोशित अधिवक्ताओ ने दोषी लोगों के विरुद्ध कार्यवाही की मांग को ले कर न्यायिक कार्य का बहिष्कार कर धरना प्रदर्शन करना शुरू कर दिया। अपर जिलाधिकारी प्रशासन व संयुक्त संघर्ष समिति के बीच वार्ता हुई जिसमें दोषी लेखपालों सहित कुछ अन्य लेखपालों को तहसील से बाहर स्थानांतरित करने पर सहमति बनी थी। चार माह होने जा रहे अभी तक कोई कार्यवाही नही हो सकी। उक्त आरोप लगाते हुए दी बार एसोसिएशन के अध्यक्ष राजनाथ यादव ने बताया कि कार्यवाही न होने से लेखपाल आये दिन कार्यो में अवरोध पैदा करते है तथा अधिवक्ताओं के प्रति असम्मानजनक टिप्पणी करते रहते है जिससे अधिवक्ताओ में काफी आक्रोश ब्याप्त है। उक्त के सन्दर्भ में अधिकारियों का ध्यान आकृष्ट कराने के लिए शुक्रवार को सांकेतिक हड़ताल किया जा रहा है। मांग पूरी न होने पर आन्दोलन को और गति प्रदान किया जाएगा।