समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता इसरार अहमद पर पुलिस ने शनिवार को बड़ी कार्रवाई करते हुए घर की कुर्की किया, इसरार अहमद समेत चार आरोपियों पर दस-दस हजार रुपये घोषित है

रिपोर्ट, वरूण सिंह 

खबर विस्तार से

आजमगढ़। टीईटी परीक्षा में नकल कराने वाले गैंग के खुलासे में फरार नकल माफियाओं के ऊपर पुलिस ने दस-दस हजार रुपये का पुरस्कार भी घोषित किया है, इसके बाद भी आरोपी हाजिर नहीं हुए हैं, जिसके बाद सपा नेता एवं पूर्व ब्लाक प्रमुख इसरार अहमद के घर पुलिस बल पहुंची और कुर्की की कार्रवाई की, बता दें कि जनवरी माह में हुए शिक्षक पात्रता परीक्षा की सुचिता भंग करने का जिले में बड़ा प्रयास हुआ था, इसके बाद पुलिस ने प्रकरण का खुलासा किया और लगभग 51 लाख रुपये के चेक व कैश की बरामदगी के के साथ ही 22 लोगों को गिरफ्तार किया था, इसके साथ ही पुलिस ने आठ लोगों को फरार बताया था, जिन्हें दो माह के लंबे समय के बाद भी पुलिस गिरफ्तार नहीं कर सकी, प्रकरण की विवेचना सीओ लालगंज मनोज रघुवंशी कर रहे थे, आरोपियों से पूछताछ में आठ अन्य आरोपियों के नाम सामने आए थे जिसमें से चार को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है, वहीं चार आरोपी अब भी फरार चल रहे है, फरार आरोपियों में पूर्व प्रमुख सपा नेता इसरार अहमद, महराजगंज थाने के सिंघवारा खास गांव निवासी जगजीवन, शहर के आहोपट्टी गांव निवासी सुनील यादव और शहर के रैदोपुर गांव निवासी तुषार सिंह शामिल हैं, पुलिस ने आरोपियों के ऊपर 10-10 हजार रुपये का ईनाम घोषित किया है, यहीं नहीं पुलिस ने इन आरोपियों के खिलाफ कोर्ट के आदेश पर एक माह पूर्व कार्रवई कर चुकी है, इनके घर पर नोटिस चस्पा कर कोर्ट में पेश होने के लिए कहा गया था, इसके बाद भी आरोपी ना तो गिरफ्तार हुए, ना ही कोर्ट में समर्पण किया, ऐसे में अब पुलिस ने इन फरार आरोपियों के घर कुर्की की कार्रवाई के लिए अदालत में अपील की, कोर्ट के आदेश पर पुलिस शनिवार को सम्मोपुर गांव निवासी सपा नेता एवं पूर्व ब्लाक प्रमुख इसरार अहमद के घर पहुंचकर कुर्की की कार्रवाई की।