तहबरपुर, आजमगढ़। विकास खंड तहबरपुर में 13अगस्त को सुबह 10ः00 बजे से जल जीवन मिशन के तहत महिलाओं को चौथे बैच का पहला दिन प्रशिक्षण का आयोजन मीटिंग सभागार में किया गया। जिसमें महिलाओं को राज्य पेयजल जल जीवन मिशन के द्वारा प्रशिक्षण का आयोजन किया गया। प्रशिक्षण में महिलाओं को जॉच कर दिखाया गया तथा महिलाओं के द्वारा जंच कराया गया ताकि अपने गांव में घर-घर जाकर स्वयं से जांच कर पानी की शुद्धता की जानकारी कर सके। प्रशिक्षण में आशा आंगनबाड़ी एवं स्वयं सहायता समूह एएनएम एवं अन्य ग्रामीण महिलाओं को जल जीवन मिशन के तहत प्रशिक्षण देकर पारंगत किया जा रहा है।जो घर घर जल योजना अंतर्गत एफटी के माध्यम से जल गुणवत्ता एवं वाटर मैनेजमेंट का प्रशिक्षण दिया गया। जिसमें महिलाओं को पानी की जांच कराई गई। जो गांव में यह कार्यकर्ता एवं ग्रामीण महिलाएं जाकर लोगों को जागरूक करके शुद्ध जल की बारीकियां जान सकती है। जिससे कि लोगों को बीमारियों से बचाया जा सके। महिलाएं गांव में जाकर जांच किट से क्लोराइड, फ्लोराइड, नाइट्रेट आरसेनिक एवं पानी का मान की जांच गांव में जाकर आसानी से की जा सकती है। प्रशिक्षण से जहां महिलाओं को बताया जा रहा है कि जिस तरह से पानी का दोहन किया जा रहा है उससे जल्द ही धरती से पानी समाप्त हो जाएगा। इसलिए हम सबको अभी से जागरूक रहने की आवश्यकता है कि अधिक से अधिक जल का संचयन और जल को बचाया जा सके। पानी की बर्बादी को हर हाल में रोका जाए एवं पानी को शुद्ध करने के उपाय बताए गए। प्रशिक्षण देने वालों में देने वालों में मुख्य रूप, संजय कुशवाहा, अमरनाथ मौर्य, श्यामसुन्दर मौर्य, नागेन्द्र निषाद सहित अन्य लोग मौजूद रहे।