– फर्जी असलहा लाइसेंस लेने के मामले में हुई पेशी
– मुख्तार को बांदा, सलीम को बाराबंकी, अनवर व सहजाद को लाया गया गाजीपुर जेल से
मऊ। गुरूवार को पूर्व सदर विधायक मुख्तार अंसारी व 3 अन्य को गैंगस्टर एक्ट मामले में अपर सत्र न्यायाधीश फास्ट ट्रैक कोर्ट नं 1/एमपी-एमएलए की विशेष अदालत में पेष किया गया। जहां अदालत ने आरोप तय करते हुए 30 सितंबर को गवाही की तिथि नियत की। जानकारी के अनुसार सदर विधायक रहते अपने लेटर पैड पर संस्तुति कर फर्जी पते पर असलहा लाइसेंस दिलाने के गैंगस्टर के मामले में मुख्तार अंसारी समेत चार पर गुरुवार को आरोप तय हो गया। मुख्तार को बांदा, सलीम को बाराबंकी, अनवर व सहजाद को गाजीपुर जेल से लाकर कड़ी सुरक्षा में एमपी-एमएल कोर्ट में पेश किया गया। उक्त मामला दक्षिण टोला थाने का है। अपर सत्र न्यायाधीश फास्ट ट्रैक कोर्ट नं 1/एमपी-एमएलए की विशेष अदालत के न्यायाधीश दिनेश चौरसिया की अदालत में चारों आरोपियों को पेश किये गया। अदालत ने यह आदेश दक्षिण टोला के फर्जी असलहा लाइसेंस मामले के आधार पर लगे गैंगस्टर मुकदमे में वीडियो कान्फ्रेसिग से सुनवाई के दौरान दिया था। सुनवाई के बाद न्यायालय ने आरोप बनाने के लिए आरोपी मुख्तार, सलीम, अनवर व सहजाद को कड़ी सुरक्षा के बीच न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत करने का आदेश दिया था। आदेश की कॉपी बांदा जिला कारागार के वरिष्ठ अधीक्षक, बाराबंकी व गाजीपुर के अधीक्षक को भेजी गई थी। बता दें कि दक्षिण टोला थाना क्षेत्र के पते पर आधा दर्जन लोगों को विधायक रहते मुख्तार अंसारी ने अपने लेटर पैड पर असलहा लाइसेंस हेतु संस्तुति की थी। उसी संस्तुति के आधार पर जिला प्रशासन ने लाइसेंस जारी हुआ था। बाद में कराई गई जांच में सभी के पते फर्जी पाए गए। इस मामले में मुख्तार अंसारी सहित सभी आधा दर्जन आरोपियों पर गैंगस्टर लगाया गया था। न्यायालय ने इस मामले में गवाही के लिए अब अगली तारीख 30 सितम्बर नियत की है।