महराजगंज, आजमगढ़। हिंदू धर्म में पुत्र के लंबी उम्र का पर्व जीवितपुत्रिका त्यौहार की पूर्व संध्या पर जहाँ महाराजगंज कस्बा सहित क्षेत्र के अन्य बाजारों में भी रौनक दिखाई दिया तो वही खरीदारी करने आये खारीदारों में उत्साह देखने को मिला। बतादें कि जितिया व्रत का त्यौहार वह विशेष दिन है जब माँ अपने बच्चों की भलाई के लिए सख्त उपवास रखती है और यह दिन अपने बच्चों के प्रति माँ के निस्वार्थ प्रेम और स्नेह की याद दिलाता है। इस व्रत को जीवपुत्रिका व्रत के नाम से भी जाना जाता है द्ययह व्रत अश्विन मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को किया जाता है। जीतीया का त्यौहार कल दिन रविवार 18 सितंबर को मनाया जाएगा द्य जितिया व्रत तीन दिवसीय त्योहार है, पहले दिन माताएँ भोजन करती हैं जिसे नहाई खाई दिवस कहा जाता है, दूसरे दिन माताएँ बिना पानी पिए सख्त उपवास रखती हैं और जो लोग इस व्रत को पानी पीकर करते हैं। जिसे खुर जटिया के रूप में जाना जाता है और तीसरे दिन पराना होता है जब वे सात्विक भोजन करके अपना उपवास तोड़ते हैं। जीवितपुत्रिका व्रत उत्तर प्रदेश, झारखंड, बिहार और नेपाल में बहुत प्रसिद्ध है।